Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

मेरी उमर तुझे लग जाए

0
08 -Aug-2021 nil Lohri Poems 0 Comments  642 Views
मेरी उमर तुझे लग जाए

मेरी उमर तुझे लग जाए तूं मेरी आँखों का तारा राज दुलारा प्राण प्यारा सुन सुन तुझे सुनाती लोरी जी हाँ मैं दादी तोरी मेरे लाल समझ ले इतना समझ सके बस जितना उतना नहीं नींद का ठौर ठिकाना मीठी लोरी सुखद तराना नदिया आती प

सो जा सोनचिरैया: लोरी आनंद की

0
19 -Jan-2019 nil Lohri Poems 0 Comments  991 Views
सो जा सोनचिरैया: लोरी आनंद की

सो जा सोनचिरैया : लोरी आनंद की ओ प्यारी सोनीरा सो जा सोनचिरैया सोजा नींद बुलाती /मीठा राग सुनाती मैं भी गाती लोरी/भरे खुशी से झोरी तेरा रूप सलोना/ सोहे माथ दिठौना नज़र बजर ना लागे/जादू टोना भागे चारों ओर अँधेरा/चिड़ि

Makar Sankranti Ka Tyohar

1
13 -Jan-2017 Mamta Rani Lohri Poems 1 Comments  3,102 Views
Makar Sankranti Ka Tyohar

मकर संक्रांति का त्यौहार, पुरे भारत में मनाया जाता है। कहीं लोहड़ी तो कहीं पोंगल, कहीं संक्रांति का त्यौहार। बड़ा ही पावन और पवित्र, होता यह त्यौहार। दान धर्म और पूजा पाठ, से होता इसका सरोकार। इस दिन सभी लोग , करते

Aai Fir Se Lohri

0
13 -Jan-2016 Dr. Roopchandra Shastri Mayank Lohri Poems 0 Comments  1,192 Views
Aai Fir Se Lohri

आई फिर से लोहिड़ी, लेकर नवल उमंग। अब फिर से बजने लगे, ढोलक और मृदंग।१। -- पर्व लोहिड़ी का हमें, देता है सन्देश। मानवता अपनाइए, सुधरेगा परिवेश।२। -- प्रेम और सद्भाव से, बनते बिगड़े काज। मूँगफली औ' रेवड़ी, बाँटो सबको आज

AMIA BIE AMIA

0
05 -Jan-2013 Lohri Poems 0 Comments  1,968 Views
AMIA BIE AMIA

लोकगीत में भी दुल्ला BBhatti की प्रशंसा की गई है परन्तु इस गीत में दुल्ला मही को बाबा कह कर सम्बोधित किया गया है । लोक गीत कुछ इस प्रकार से है : अम्मीयाँ बई अम्मीयाँ, भीं पये ते कणका जमींया, कणका वीच बटेरे, दो साधु दे, दो म

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017