Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

When I missed you.

0
24 -Jun-2022 ताज मोहम्मद Lonely Poems 0 Comments  35 Views
When I missed you.

When I missed you... Tears welled up in the eyes...!! My heart beat increased... It started breathing heavily...!! I warned myself... that I should not remember you...!! But my heart and mind do not, believe in remembering you...!! Do you miss me too? Do your eyes fill with tears, also? do you suffer like me... You sigh in this our love...!! I got everything, But I just didn't get you...!! I have missed you , for the rest of my life...!! Do you know,,,? How much a person becomes, compelled in one's love...!! He is always in the sorrow...!! I do

गलतफहमी

0
15 -May-2022 Prashant Singh Lonely Poems 0 Comments  31 Views
गलतफहमी

रास्ते वहीं है,मंज़िल वहीं है फिर भी वो कहीं है,हम कहीं है समझते, समझाते वर्ष गुजरते जा रहे है शायद हम भी सही है,गलत वो भी नहीं है बातें कई दफन करते है हर रोज़ जो हमने कही नहीं है,उसने सुनी नहीं है । PRASHANT SINGH

हर सफर में हमसफ़र जरूरी तो नहीं

0
14 -May-2022 Prashant Singh Lonely Poems 0 Comments  46 Views
हर सफर में हमसफ़र जरूरी तो नहीं

हर सफर में हमसफ़र हो,जरूरी तो नहीं आसान हो मंज़िल का डगर,जरूरी तो नहीं अच्छी लगती है हर खूबसूरत चीज लेकिन हर खूबसूरत चीज अच्छी हो,जरूरी तो नहीं । माना चेहरा उसका सुंदर नहीं लेकिन दिल की भी बेकार हो जरूरी तो नहीं ये

जरूरी तो नहीं

0
26 -Mar-2022 Prashant Singh Lonely Poems 0 Comments  81 Views
जरूरी तो नहीं

हां मुझे गर्व है, मैं बिहार हू बुद्ध का पावन धरा हूं मैं अशोक का पुकार हूं चाणक्य का नीति हूं मैं विक्रमशिला ज्ञान भण्डार हूं राजेन्द्र का सोच हूं मैं प्रथम राष्ट्रपति आधार हूं हां मुझे गर्व है ,मैं बिहार हूं । दि

सुना है बड़े मकान है।

0
18 -Dec-2021 ताज मोहम्मद Lonely Poems 0 Comments  198 Views
सुना है बड़े मकान है।

सुना है बड़े मकान है तुम्हारें इस शहर में। सब मकान ही है या कोई घर भी है उनमें।।1।। इक भी हरा पत्ता ना है बागों के शज़र में। तभी तो परिन्दें उड़ कर गए दूर गगन में।।2।। मैं ग़लत हो सकता हूँ तुम्हारी यूँ नज़र में। गर खुश हो त

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017