Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Khwaab Ko Saath Milkar Sajaane Lage

0
26 -May-2022 Muhammad Asif Ali Love Poem 0 Comments  106 Views
Khwaab Ko Saath Milkar Sajaane Lage

ख़्वाब को साथ मिलकर सजाने लगे घर कहीं इस तरह हम बसाने लगे कर दिया है ख़फ़ा इस तरह से हमें मान हम थे गए फिर मनाने लगे ~ मुहम्मद आसिफ अली

अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं

0
11 -May-2022 Muhammad Asif Ali Love Poem 0 Comments  156 Views
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं

अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं आओ मुहब्बत को एक बार संभल कर देखते हैं चाँद तारे फूल शबनम सब रखते हैं एक तरफ महबूब-ए-नज़र पे इस बार मर कर देखते हैं जिस्म की भूख तो रोज कई घर उजाड़ देती है हम रूह-ओ-रवाँ को अपनी जान

मेरी जान

0
09 -May-2022 Musafir Love Poem 0 Comments  128 Views
मेरी जान

*मेरी जान* वो है सिर्फ मेरा..... ये हम सरे आम लिखेंगे मेरी जान तुझे हम खुदा का नायाब इनाम लिखेंगे तेरे चेहरे को लिखेंगे बग़दाद की हसीन सुबह हम तेरी हसीन ज़ुल्फ़ों को नजफ़ की ढलती शाम लिखेंगे दफ़अतन जो कोई पूछ बैठे आखरी ख़्व

जो खुद से मिला दे

0
01 -May-2022 Megha Raghuwanshi Love Poem 0 Comments  212 Views
जो खुद से मिला दे

जो खुद से मिला दे जो खुद से प्यार करना सिखा दे जो दुनिया को देखने का नजरिया खूबसूरत बना दे जो हमे खुद को समझना सिखा दे जो हमे खुद की अहमियत बता दे वो होता है प्यार मेरे लिए तो यही है प्यार की परिभाषा दूसरो के लिए कुछ

तुम्हें हक है

0
19 -Apr-2022 Kukku ❤️ Love Poem 0 Comments  0 Views
तुम्हें हक है

तुम्हें हक हैं मेरी रूह से जुड़ जाने का , तुम्हें हक है मुझे अपने दिल के राज बताने का । तुम्हें है हैं मुझे अपनी नाराज़गी जताने का, तुम्हें हक है मेरी उदासी की वजह जानने का । तुम्हें हक है मेरी मुस्कान की वजह बन जाने

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017