Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Itna toot kar koi pyar nahi kar sakta

0
05 -Dec-2019 Mansoor Love Poem 0 Comments  150 Views
Itna toot kar koi pyar nahi kar sakta

Khwabo khayaal mein hi tujhko sajau kab tak Yaado me teri main ye ashk bahau kab tak Tasawwurat ki dulhan main banau kab tak Tujhe seene se yaado mein lagau kab tak Dile bimar ko main khoon pilau kab tak Zinda ankho ke sarmaye lutau kab tak Dabi zuban se main tujhko bulau kab Ek ek khwab ko main aag lagau kab Main har roz apni rooh jalau kab tak Is bikhre hue rishte ko nibhau kab tak Janaza khwahisho ka apni uthau kab tak Khud hi ro kar khud ko hi manau kab tak Logo ko jhoot aur Sirf jhoot sunaau kab tak Teri ummid mein ye shama jalau kab tak K

स्वयं को अर्पण नहीं कर पाऊँगी

0
28 -Nov-2019 Jyoti Ashukrishna Love Poem 0 Comments  117 Views
स्वयं को अर्पण नहीं कर पाऊँगी

ओ! सद्ग्रंथ से पावन मन ओ! निर्झर झरने से निर्मल तन प्रभात की ऊषा से शोनित तेरा मुखमंडल मैं तुमको स्वपनलोक सा संसार नहीं दे पाऊँगी करना माफ मुझे तुम मैं स्वयं को अर्पण नहीं कर पाऊँगी तुम हिमतुंग के उच्च शिखर मैं नि

बारिश का आना

0
28 -Nov-2019 Jyoti Ashukrishna Love Poem 0 Comments  106 Views
बारिश का आना

सांवली सी इस ठिठुरती शाम में यों बारिश का आना याद दिलाता है तेरे मेरे साथ का वो गुजरा जमाना वो तेरे हाथ में छतरी मेरा सर तेरे कांधों पर अदरक वाली चाय की एक साथ चुस्की लगाना वो भीगी सड़क पर मेरा छप-छप कर चलना और तेरा

अपनी यादों में मुझे कभी यूं ही ढूंढ़ लेना तुम

0
28 -Nov-2019 Suman Kumari Love Poem 0 Comments  153 Views
अपनी यादों में मुझे कभी यूं ही ढूंढ़ लेना तुम

अपनी यादों में मुझे कभी यूं ही ढूंढ़ लेना तुम, ना मिलूं ती धड़कनों से मेरी पता पूछ लेना तुम रहूंगी मौजूद इन हवाओं में हमेशा, फिर भी, ना दिखूं तो इन्हें अपनी सांसों से छू लेना तुम मेरी ग़ज़ल, हर शायरी में रहते हो बस त

अनाम सा ये रिश्ता हमारा

0
28 -Nov-2019 Suman Kumari Love Poem 0 Comments  82 Views
अनाम सा ये रिश्ता हमारा

कौन समझे क्या है रिश्ता हमारा..! कुछ न होकर भी बहुत कुछ है हमारा ना जन्मों का बंधन..! ना उम्मीदों का दामन..! ना पाने कि चाहत..! ना बिछड़ने का गम..! कुछ तो है जो, हमें खींचते है दुबारा.! यूं ख्यालों मै रहता, तुम्हारा आना जाना,

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017