Latest poems on indian republic days, 26 january, gantantra diwas, swadhinta diwas

तेरी हर बात

0
21 -Apr-2018 Harshit Ranwal Love Poem 0 Comments  20 Views
तेरी हर बात

क्या कहूँ अब मैं जब तेरा नाम ही मेरे होठों पर हँसी का कारण है। तेरी मुस्कुराती सूरत आँखों के सामने आकर दिल को मेरे हमेशा जोरो से धड़का जाती है। तेरी वो प्यारी सी आवाज़ जो मेरा नाम पुकारा करती थी जब गूँजती है कानो में

वजह न पुछो तो एक बात कहूं...........?

0
20 -Apr-2018 pravin tiwari Love Poem 0 Comments  162 Views
वजह न पुछो तो एक बात कहूं...........?

वजह न पुछो तो एक बात कहूं...........? तुझे रब की हसीन मैं सौगात कहूं...........! ढूंढता रहा जिसे मैं अपने हाथों में, तुझे किस्तम की वह मैं लकीर कहूं..........! आसमां में चमकते सितारों में तुझे चमकता एक मैं चांद कहूं...........! सजती है जो मुस्

तुम्हें फिर से सिखाऊँ कि मोहब्बत क्या है

0
20 -Apr-2018 victorious Love Poem 0 Comments  41 Views
तुम्हें फिर से सिखाऊँ कि मोहब्बत क्या है

तुम्हें फिर से सिखाऊं कि मोहब्बत क्या है? ज़ुल्फ से खेलना, होंठो पे मचलते रहना सुबह से शाम, ख़यालों में डूबते रहना बांहों में महबूब की, गले लग कर सिर्फ उसकी ही चाहत में भीगते रहना हया को ताक पर रख कर अपने घरानों की गंद

Na jane kis tarah se

0
19 -Apr-2018 Pragya Sankhala Love Poem 0 Comments  52 Views
Na jane kis tarah se

Na jane kis kis tarah se Hamne jataya pyar Kabhi chitti me chupaya isse Kabhi chand ko bataya isse Phoolo ki mahak me dhoodha Hawa ki lahar me paya Koyal ke gane me pyar Barish ki boondo me pyar Suraj ki kirano me pyar Har jagah paya ye pyar Prakrti ki iss godh me pyar Mitti si yaado me pyar Tandhi si raato me pyar Subah ki lali me pyar Charo tararf milta ye pyar Dhudho toh milta yu pyar

काश दिल की सुन ली होती

0
19 -Apr-2018 shivam kaushal Love Poem 0 Comments  184 Views
काश दिल की सुन ली होती

वो सामने बैठे थे पर कुछ कह न सके, कहना तो दूर निगाहे मिला न सके, ऐसा नहीं की सर उठा न सके, दिल तो कहना चाहता था बहुत कुछ , मगर शायद खुद की निगाहो को उनकी निगाहो से प्यार करा न सके । एक बार बैठे बैठे ये पल याद आया था, और सोच

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017