Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

कि मोहब्बत की दुनिया के

0
29 -Aug-2021 Deepak Tomar Love Poem 0 Comments  196 Views
कि मोहब्बत की दुनिया के

कि मोहब्बत की दुनिया के इश्क शहर से आए लगते हो.. देखे हमने तीनो पहर.. तुम किसी और पहर से आए लगते हो.. हमारी तो ये पहली मोहब्बत है ए मुसाफिर.. लेकिन हमें तुम खेले खाये लगते हो..

इजहारे-इश्क

0
20 -Aug-2021 AKHILESH ghritlahare Love Poem 0 Comments  173 Views
इजहारे-इश्क

ओ चाँद एक आरज़ू सी दिल मैं तेरी अक्सर छुपाये फिरता हूँ प्यार करता हूँ तुझ से , पर तुझसे कहने से डरता हूँ नाराज़ ना हो जाओ कहीं मेरी गुस्ताखी से तुम इसलिए खामोश रह कर भी तेरी धड़कन को सुना करता हूँ खोया हूं तुम्हारे खया

बाज़ार-ए-इश्क

0
20 -Aug-2021 AKHILESH ghritlahare Love Poem 0 Comments  172 Views
बाज़ार-ए-इश्क

क्यों नींद भी नीलाम हो जाती है बाज़ार-ए-इश्क में, उसको भूल कर सो जाना, क्यों आसान नहीं हैं, उसकी यादों में तड़पना क्यों सरे आम नहीं होता, क्या अब भूलना मुमकिन है ऐ मेरे मालिक बस इक बार उसका दीदार तो होता, है कोई वकील इ

लाइटर (एक ग़ज़ल)

0
19 -Aug-2021 Anand kumar (Manish) Love Poem 0 Comments  67 Views
लाइटर (एक ग़ज़ल)

जरा मेरा लाइटर ढूंढो मिल नहीं रही है उसे भुलाने की दिल को तलब जग रही है ये आखरी कस है अब पक्का भुला दूंगा उसे बस यही करते-करते मेरी उम्र कट रही है भुलाते-भुलाते एक दिन भुला ही दिया उसे फिर भी उसकी यादें मुझसे लिपट रह

वो हमें अपना दिल दे गाए

0
17 -Aug-2021 khamosh Shayar Love Poem 0 Comments  367 Views
वो हमें अपना दिल दे गाए

धड़क रही है उनकी धड़कन हमारे सीने मैं, उनकी सपनो को अपनी जिंदगी समझ जी रहे है हम उनकी याद मैं, वादे सारे पूरे कर गए, हमें जिंदगी दे खुद मौत को गले लगा वो सो गए, दुनिया की हर खुशी दे खुद खामोश हो गए, वो हमें अपना दिल दे ग

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017