Latest poems on indian republic days, 26 january, gantantra diwas, swadhinta diwas

Mushkil hai

0
03 -Apr-2012 Dr. Kumar Vishwas Love Poem 0 Comments  3,598 Views
Dr. Kumar Vishwas

Na pane ki khushi hai kuch, na khone ka hi kuch gam hai,
ye daulat aur shohrat sirf kuch jakhmo ka marham hai,
ajab si kasmkash hai roj jeene me, roj marne me,
mukkamal zindagi to hai magar poori se kuch kam hai.
Girebaan chaak karna kya hai seena aur muskil hai,
Harek pal mushkurakar ask peena aur mushkil hai,
Humari badnishibi ne humein bas itna sikhaya hai,
kisi ke ishq me marne se jeena aur mushkil hai.
Pukare aankh me chadhkar to khu ko khoon samajta hai
andhera kisko kehte hai ye bas jugnoo samajhta hai…!
humein to chand taaro me bhi tera roop dikhta hai
mohabbat me numaish ko adayein tu samajhta hai…!!



मुश्किल है

न पाने की ख़ुशी है कुछ, न खोने का ही कुछ गम है,
ये दौलत और शोहरत सिर्फ कुछ जख्मों का मरहम है,
अजब सी कशमकश है रोज जीने में, रोज मरने में,
मुक्कमल ज़िन्दगी तो है मगर पूरी से कुछ कम है.
गिरेबां झांक करना क्या है सीना और मुश्किल है,
हर एक पल मुस्कुराकर अश्क पीना और मुश्किल है,
हमारी बदनसीबी ने हमें बस इतना सिखाया है,
किसी के इश्क में मरने से जीना और मुश्किल है.
पुकारे आँख में चढ़कर तो खु को खून समझता है
अँधेरा किसको कहते हैं ये बस जुगनू समझता है !
हमें तो चाँद तारो में भी तेरा रूप दीखता है
मोहब्बत में नुमाइश को अदायें तू समझता है…!!


   Download MP3

Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017