Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

25 वीं शादी की सालगिरह की बधाई

0
07 -Oct-2021 Ravi Marriage Anniversary Poems 0 Comments  567 Views
25 वीं शादी की सालगिरह की बधाई

पहले दे रहे संदेश, शादी की पच्चीसवीं सालगिरह की बधाई का। खुशीयों से भरा रहे दामन, मनोकामना है यह आपके अज़ीज़ का। पहले दे रहे संदेश, शादी की पच्चीसवीं सालगिरह की बधाई का।। ब्याहता के जीवन में, आती है‌‌ शादी के सालग

आज सालगिरह है हमारी शादी की.....!!

0
15 -May-2019 pravin tiwari Marriage Anniversary Poems 0 Comments  16,412 Views
आज सालगिरह है हमारी शादी की.....!!

मुस्कुराने लगती है खुशियां, जब आता दिन ये हर साल है... रिश्ता जुड़ा एक अंजाने से, जो जीवन संगिनी मेरी आज है... रौशन है घर-बार मेरा जो, सब उसकी ही बदौलत है... छोड़ के अपना सबकुछ उसने, मेरे परिवार को अपनाया है... सास-ससुर को म

Aarzoo bhi paagl hai

0
17 -May-2017 Frista Marriage Anniversary Poems 0 Comments  5,365 Views
Aarzoo bhi paagl hai

"Naa koi Khaani hai Naa koi Ruhaani hai... ... Beete hue kl ki Kuch beeti hui Zindgaani hai... ... Subaah me jise Chaaha Shaam bhi uski Deewani hai... ... Aarzoo bhi paagl hai Kuch meri chaaht bhi Mstaani hai... ... Meri Gurbt meri Sohbt tum hi ho Bs itni si Khaani hai bs itni si Khaani hai..."

Sinduri Parivesh

0
06 -Dec-2016 Dr. Roopchandra Shastri Mayank Marriage Anniversary Poems 0 Comments  2,373 Views
Sinduri Parivesh

दोहे "सिन्दूरी परिवेश" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') सालगिरह पर ब्याह की, पाकर शुभसन्देश। जीवन जीने का हुआ, सिन्दूरी परिवेश।। -- कर्म करूँगा तब तलक, जब तक घट में प्राण। पा जाऊँगा तन नया, जब होगा निर्वाण।। -- आना-जाना

Dheere Dheere Kat Rahe Diwas-Mahine-Saal

0
05 -Dec-2016 Dr. Roopchandra Shastri Mayank Marriage Anniversary Poems 0 Comments  3,521 Views
Dheere Dheere Kat Rahe Diwas-Mahine-Saal

दोहागीत "पाँच दिसम्बर-वैवाहिक जीवन के तैंतालीस वर्ष पूर्ण" मृग के जैसी चाल अब, बनी बैल की चाल। धीरे-धीरे कट रहे, दिवस-महीने-साल।। -- वैवाहिक जीवन हुआ, अब तैंतालिस वर्ष। जीवन के संग्राम में, किया बहुत संघर्ष।। पात्र

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017