Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

हम मरते दम तक उनसे कहते रहे ....

22
04 -Apr-2016 Thakur Gourav Singh Sad Poems 14 Comments  1,172 Views
Thakur Gourav Singh

हम मरते दम तक उनसे कहते रहे
कि हमें उनसे प्यार नहीं ,
मगर दिल ही दिल में रहे हमेशा उनके तलबगार कहीं ।
वो चले जाते हैं तो हर शाम बेगानी सी लगती है ,
वो लौट आते हैं तो हर शाम दीवानी सी लगती है ,
हम मरते दम तक उनसे कहते रहे
कि हमारा उन पर कोई इख्तियार नहीं ,
मगर दिल ही दिल में रहे
हमेशा उनके तलबगार कहीं ।
हम मरते दम तक उनसे कहते रहे,.
कि वो हैं एक मीठा सपना कहीं ,
मगर दिल ही दिल में रहे,
हमेशा उनके तलबगार कहीं ।
हम जब भी अक्सर उदास होते हैं
तो ढूँढ़ते हैं उन्हें ही कहीं ,
और जब भी खुशियों के पंख लगते हैं
तो भी उड़ते उनके संग ही यहीं ,
हम मरते दम तक उनसे कहते रहे
कि हमें उनसे कोई चाहत नहीं ,
मगर दिल ही दिल में रहे हमेशा उनके तलबगार कहीं ।
हम मरते दम तक उनसे कहते रहे
कि हमें उनकी कोई जरूरत नहीं ,
मगर दिल ही दिल में रहे,
हमेशा उनके तलबगार कहीं ।
वो पूछते हैं कि जलने की कीमत क्या यहाँ जलकर होगी ,
हम कहते हैं कि हर जलने पर जलने की और मोहलत होगी ,
हम मरते दम तक उनसे कहते रहे कि हमें उनका खुमार नहीं ,
मगर दिल ही दिल में रहे हमेशा उनके तलबगार कहीं ।
इश्क़ को हर बार शब्दों से बयाँ करना कोई इश्क़ नहीं ,
इश्क़ जो एहसासों में घुलता है बस होता है इश्क़ वही ,
हम मरते दम तक उनसे कहते रहे
कि हमारा उनका कोई मेल नहीं ,
मगर दिल ही दिल में रहे हमेशा उनके तलबगार कहीं ।
हम मरते दम तक उनसे कहते रहे
कि हमें उनसे प्यार नहीं ,
मगर दिल ही दिल में रहे हमेशा उनके तलबगार कहीं ।।

ठाकुर गौरव सिंह
#अल्फाज़#दिल#से..



 Please Login to rate it.



You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

14 More responses

  • poemocean logo
    Taniya mehta (Guest)
    Commented on 05-April-2016

    Bht aachi poem hai.. Really hrt touching.. Gbu.. May all ur wishes cum true...

  • poemocean logo
    Chandan Singh (Guest)
    Commented on 05-April-2016

    Nyc poem....

  • poemocean logo
    Shalini (Guest)
    Commented on 05-April-2016

    nyc n hrt tching lines dr..!!.

  • poemocean logo
    Rakhi (Guest)
    Commented on 05-April-2016

    I luv it....

  • poemocean logo
    Rahul Rana (Guest)
    Commented on 05-April-2016

    Bahut acha likha hai yaar.

  • poemocean logo
    Ritu Patel (Guest)
    Commented on 05-April-2016

    Ohoo main toh tri talabgaar hogyi... Yaar u rocked my mind bt aankho main thodi aanshu bhi aagye aapki poem padhkar... U r 2 good.

  • poemocean logo
    Minakshi Prasad (Guest)
    Commented on 05-April-2016

    Wah wah kya baat hai....

  • poemocean logo
    Tina Jhuri (Guest)
    Commented on 05-April-2016

    Hrt touchng poem.

  • poemocean logo
    Ankita (Guest)
    Commented on 05-April-2016

    U r best yaar... Tum hum sab yuva ki awaz ho... Qki tumahri haar poem main kuch aisa hi lagta hai.... I luv ur poems.... GBU.

  • poemocean logo
    Rani Jain (Guest)
    Commented on 05-April-2016

    Nyc poem dude.... Keep it.up....

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017