Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Wo anjana chehra

1
07 -Apr-2014 Nainsi Jain Memories Poems 0 Comments  1,254 Views
Nainsi Jain

Uss raat ke shamiyane mein,naa jaane kya nazakat thi.
Woh chehra tha kuch anjana,phir bhi iss dil ki yahi chahat thi.
Meri aankhon ke pardon ne,shayad band karni chahin khidkiyaan.
Par inn khidkiyon ko band hone ki,dil se kahan izazat thi.

Unke reshmi dupatte main chupne ki shayad,iss dil ki ibadat thi.
Par socha shayad door se dekhne main hi,iss dil ko rahat thi.
Unke chehre ki chamak se uss din,roshan hue the kai sitare.
Inn sitaron main ek sitara banne ki,meri bhi chahat thi.

Unke pairon ki aahat ka,hua tha asar iss kadar mujh par.
Maano har aahat par jaise,eik phool ke khilne ki inayat thi.
Unka baar-baar muskurana,aur sharmakar yun dekhna.
Maano kai motiyon ko kisi mala main,phir se bandhne ki chahat thi.

Aaj baitha hun kisi kone main,aur sochta hun unn ghadiyon ko.
Toh lagta hai iss soone mann main,phir se mohabbat ke ghunghruon ki khan-khanahat thi.



Wo anjana chehra

उस रात के शामियाने में ,ना जाने क्या नज़ाकत थी .
वो चेहरा था कुछ अनजाना,फिर भी इस दिल की यही चाहत थी .
मेरी आँखों के पर्दों ने ,शायद बंद करनी चाहीं खिड़कियाँ .
पर इन खिड़कियों को बंद होने की ,दिल से कहाँ इज़ाज़त थी .

उनके रेशमी दुपट्टे में छुपने की शायद ,इस दिल की इबादत थी .
पर सोचा शायद दूर से देखने में ही ,इस दिल को राहत थी .
उनके चेहरे की चमक से उस दिन ,रोशन हुए थे कई सितारे .
इन सितारों में एक सितारा बनने की , मेरी भी चाहत थी .

उनके पैरों की आहट का ,हुआ था असर इस कदर मुझ पर .
मानो हर आहट पर जैसे ,एक फूल के खिलने की इनायत थी .
उनका बार -बार मुस्कुराना ,और शर्माकर यूँ देखना .
मानो कई मोतियों को किसी माला में ,फिर से बंधने की चाहत थी .

आज बैठा हूँ किसी कोने में , और सोचता हूँ उन घड़ियों को .
तो लगता है इस सूने मन में ,फिर से मोहब्बत के घुंघरुओं की खनखनाहट थी .


 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017