Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Milkar bharat jai bolo

0
25 -Jan-2016 sahil verma Republic Day Poems 0 Comments  2,363 Views
sahil verma

Mat todo mat todo Hindu Muslim ko jodo
bhai bhai ko jodo milakar Bharat jai bolo
jisane bhi boi hai hinsa dhoondho aise gaddaron ko
lahoo bahaya masoomon ka fenko ab talavaron ko
Bangal vibhajan dekha hai Pakistan bhi dekha hai
desh ki khatir veero ko kurbani dete dekha hai
rajaneeti ke chaurahe par deshabhakti ki moorat hai
netao ke bhitar dekho atankavad si soorat hai
Hiroshima ham bhool gae bas hathiyaron ki hod hai
vishv bhar men paramanu bamb, Hydrogen bamb ka daur hain
Pakistan, China, Bharat mein sheet yuddh ye band karo
Arunachal, Laddakh, Siyachin vivad ka hal karo
pahale angrejon se trast the ab apanon se hi trast hain
riyasat ke jo raja the vo soobe ke ab mukhiya hain
janta ki ankhon men ansoo tab bhi the jo aj bhi hain
Rajaguru Sukhadev Bhagat khushi se shaheed ho jate the
aaj bhi major, fauji sarahad par kurbani de dete hain
deshadroh men jel bhej do jinako na tiranga bhata ho
naash karo tatvon ko jinase sanprabhuta ko khatra ho
lal, hare, pile jhando ko apane ghar ke bhitar rakkho
dvitiy svatantra hai lani chhat par ek tiranga rakkho
tumhi Chanakya, Ramanujan, Subhash bhi tum hi ho
apane bhitar ki adbhut shakti ko pahachano ab
pukarati, karahati sath tera fir se ab mangati
ao chalen mit matribhoomi aas se hamen niharati
mat todo mat todo hindu muslim ko jodo
bhai bhai ko jodo milakar Bharat jai bolo..



मिलकर भारत जय बोलो

मत तोड़ो मत तोड़ो हिन्दू मुस्लिम को जोड़ो
भाई भाई को जोड़ो मिलकर भारत जय बोलो
जिसने भी बोई है हिंसा ढूँढ़ो ऐसे गद्दारों को
लहू बहाया मासूमों का फेंको अब तलवारों को
बंगाल विभाजन देखा है पाकिस्तान भी देखा है
देश की खातिर वीरो को कुर्वानी देते देखा है
राजनीति के चौराहे पर देशभक्ति की मूरत है
नेताओ के भीतर देखो आतंकवाद सी सूरत है
हिरोशिमा हम भूल गए बस हथियारों की होड़ है
विश्व भर में परमाणु बम, हाइड्रोजन बम का दौर हैं
पाकिस्तान,चाइना,भारत में शीत युद्ध ये बंद करो
अरुणाचल, लद्धाख,सियाचिन विवाद काहल करो
पहलेअंग्रेजों से त्रस्त थे अब अपनों से ही त्रस्त हैं
रियासत के जो राजा थे वो सूबे के अब मुखिया हैं
जनता कीआँखों में आंसू तब भी थे जो आज भी हैं
राजगुरु सुखदेव भगत ख़ुशी से शहीद हो जाते थे
आज भी मेजर, फौजी सरहद पर कुर्बानी दे देते हैं
देशद्रोह में जेल भेज दो जिनको न तिरंगा भाता हो
नाश करो तत्वों को जिनसे संप्रभुता को खतरा हो
लाल, हरे,पीले झंडो को अपने घर के भीतर रख्खो
द्वितीय स्वतंत्रा है लानी छत पर एक तिरंगा रख्खो
तुम्ही चाणक्य, रामानुजन, सुभाष भी तुम ही हो
अपने भीतर की अद्भुत शक्ति को पहचानो अब
पुकारती, कराहती साथ तेरा फिर से अब मांगती
आओ चलें मीत मातृभूमि आस से हमें निहारती
मत तोड़ो मत तोड़ो हिन्दू मुस्लिम को जोड़ो
भाई भाई को जोड़ो मिलकर भारत जय बोलो।।


 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017