Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

मां बाप का सम्मान करो जिसने तुमको जन्म दिया

0
22 -Mar-2019 Naren Kaushik Moral Education Poems 0 Comments  406 Views
मां बाप का सम्मान करो जिसने तुमको जन्म दिया

नमन करो उस शक्ति को जिसने जीवन निर्माण किया, पूजा करो उस मां जननी की जिसने तूमको जन्म दिया! शीश झूकाते उस शक्ति को जिसे सबने भगवान कहा भूमि है जननी प्रकृति की इसलिये सबने धरती मां कहा गगन है पालक प्रकृति का इसीलिय़

कवि की जिंदगी

0
13 -Mar-2019 mannu bhai Moral Education Poems 0 Comments  175 Views
कवि की जिंदगी

कवि की जिंदगी दुनिया आसमान है तो टूटा हुआ तारा है हम। दुनिया दरिया है तो शांत सा किनारा हैं हम। दुनिया राजनिति है जहां लगता नारा हैं हम। दुनिया महफ़िल है तो गम का सहारा है हम। दुनिया गर रोटी है तो तपने वाला तवा है ह

खुशिया

0
25 -Feb-2019 Sunil Sharma Moral Education Poems 0 Comments  186 Views
खुशिया

खुशिया कभी खुद खुश रहकर कभी दुसरो को खुश रखकर जिंदगी के हर पल में खुश रहना सीख हे दोस्त । दुखी रहने की वजह काफी है खुश रहने की वजह ढूंढ हे दोस्त । मुसलसल गुजर रही जिंदगी से कुछ लम्हे ख़ुशी के चुरा हे दोस्त । कभी खुदी

Subah Jaldi Uthna Sikho

0
25 -Jan-2019 Kirti Srivastav Moral Education Poems 0 Comments  281 Views
Subah Jaldi Uthna Sikho

Subah jaldi uthna seekho, brush fir kulla karna seekho. Surya namaskar karke tum, aangan mein daud lagaana seekho. Sehat tumhari ban jaayegi, doodh gar tum peena seekho. Naha-dho, taiyar hokar, school mein jaakar padhna seekho. Achchhe bachche kahlana hai to, badon ka aadar karna seekho. Khel-kood bhi hai jaroori, nit-naye khel, khelna seekho.

Man men ho ujjvalata

0
15 -Dec-2018 Harjeet Nishad Moral Education Poems 0 Comments  266 Views
Man men ho ujjvalata

Man men ho ujjvalata. Hriday men pavanata. Manav men badhati jaye, Dharmik sahishnuta. Swarg dhara ban jaye. Preet pyar failayen. Jeevan devon sa bane, Danavata mit jaye. Prabhu ki sab santan. Sabka ho samman. Sabke achchhe karm hon , Manavat Pahchan.

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017