Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

माँ!

0
01 -Jun-2020 Ayush Mothers Day Poem 0 Comments  32 Views
माँ!

दिल में जो होता हैं मैं तुम्हें कहा बता पाता हुँ तुझे कितना चाहता हुँ ये कहा जता पाता हुँ माँ! तु क्या हैं मेरे लिए मैं तुम्हें कहा समझा पाता हूं पीट के मुझे चुप कराती तु हैं मैं रूठता हुँ तो मनाती भी तु हैं चोट अगर

WO HAI MAA

0
26 -May-2020 HITESH GIDWANI Mothers Day Poem 0 Comments  34 Views
WO HAI MAA

भले ही आपके हो कितने सारे यार पर पूरी दुनिया में कोई नहीं करता आपको मां से ज्यादा प्यार मां ही है जिसने आपको दिया है आपका आधार वही है जो रात रात जागी जब था आपको बुखार वही है जिसने आपको दिए है संस्कार वही है जो आपका क

Maa or Bachpan

8
23 -May-2020 krishan Mothers Day Poem 1 Comments  540 Views
Maa or Bachpan

So kar Khud gile me sukhe me hume sulati h Aaye hassen supne hume is liy meeti loriya gati h choti si musibat ki aahat ko humari or aata dekh Wo humare liy us rab se bhi bheed jati h Jab kabhi ho uncaha dard hume Us pal Humari juban par maa hi aati h Sataye jab bhi koi marz Ek maa hi h is dooniya me jo us pal hume samjh pati h Mahfuz rakhti h is dooniya se hume apni banho me muskan dekh kar humare cehre par wo sare gam bhol jati h Uksi Aah nikal jati h ek choti si chot par humari Tab hi to maa is dharti par janat kahlati h Ho jaye jo deri kabhi

क्या होती है माँ

1
17 -May-2020 Vikas Kumar Giri Mothers Day Poem 0 Comments  76 Views
क्या होती है माँ

तुझे कुछ होने पर जिसका कलेजा छलनी हो जाता वो होती है माँ खुद जमीन पर सोकर तुझे अपनी बिस्तर पर सुला दे वो होती है माँ खुद कितनी भी तकलीफ में हो बस तुम्हे देखकर मुस्करा दे वो होती है माँ खुद कितनी भी भूखी हो लेकिन तुम

-----:"जननी..":-----

0
12 -May-2020 BABUL KUMAR SINGH Mothers Day Poem 0 Comments  204 Views
-----:

जब तूने मुझे जन्म दिया तब मैं नन्हा सा बच्चा था जीवन की कड़ियों से अनभिज्ञ मेरा मन तब सच्चा था….! थोड़ा सा जब बड़ा हुआ तेरे सहारे खड़ा हुआ सोचा की कुछ और बढूँ तन मन से पूरा पढूँ...! पढ़-लिखकर विद्वान बनूँगा माँ-बाप का नाम कर

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017