Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

अम्मा !

0
19 -Jul-2021 nil Mothers Day Poem 0 Comments  43 Views
अम्मा !

अम्मा ! अम्मा तुमने जिया जीवन कुछ पिताजी के लिए कुछ मेरे लिए कुछ घर -परिवार सगे-सम्बन्धियों के लिए उससे अधिक खेत-खलिहान के लिए उससे भी अधिक गांव की मिट्टी के लिए अम्मा सचमुच तुम मेरी ही नहीं पास-पड़ोस,गांव-आनगांव क

पढ़ लिया

0
08 -May-2021 N.K.M.[ LYRICIST ] Mothers Day Poem 0 Comments  197 Views
पढ़ लिया

MOTHER-SONG :- पढ़ लिया LYRICIST :- N.K.M. [ +916377844869 ] LYRICS :- ::::::------ INTRO PART :::::--- आज सुनानी होगी तुमको दु:ख भरी कहानी, आज बतानी होगी तुमको बीती बातें पुरानी, तू कहां रहता है, मां का पता क्या है तुझे... तेरी रगों में क्या बहता है, अंदाज़ा इसका है क्या तुझ

प्रेम की मूरत

0
01 -May-2021 Mamta Rani Mothers Day Poem 0 Comments  266 Views
प्रेम की मूरत

प्रेम की मूरत माँ तेरे बिना इस दुनियां में ,कहीं भी जन्नत नहीं तेरी बस रहमत रहे, दुनियां से कोई भी मन्नत नहीं सर पे सदा तेरा हाँथ रहे, दिल में प्यार बेशूमार रहे माँ गर ख़फ़ा हो ,उस रब की भी कोई रहमत नहीं जग सूना ये संसार

Maa Ki Abhilasa

0
24 -Apr-2021 Ravi Gangwar Mothers Day Poem 0 Comments  208 Views
Maa Ki Abhilasa

मां की अभिलाषा जब पहली धड़कन धड़की थी इस दिल में उस गोद को छोड़ कहाँ जाऊ मै जब पहली बार देखा था इस जग में तेरा ही चहरा देखा था मैने जिंदगी को जीना सिखाया तुमने हर मुश्किल से लड़ना सिखाया तुमने अपना निवाला भी मुझे द

हर बार तुम्हारी ममता

0
25 -Mar-2021 सिद्धार्थ पांडेय Mothers Day Poem 0 Comments  279 Views
हर बार तुम्हारी ममता

हर बार तुम्हारी ममता, हर बार तुम्हारी आंखें। रहतीं बेचैन हमेशा , हर बार राह ही ताकें। हर बार तुम्हारी ममता, हर बार तुम्हारी आंखें। तेरे पल्लू को पाकर, मैंने पाई है कितनी मस्ती। तेरे स्नेह के पट से ,मैंने पाई है अपन

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017