Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Maa ka pyar

0
10 -May-2014 Nainsi Jain Mothers Day Poem 0 Comments  4,259 Views
Nainsi Jain

Iss jindgi ke rishton ke mausam mein,
Yeh rishta hota hai sabse suhana,
Uss maa ki mamta ki gehrayi mein chhipa hai,
Ek bachhe ka beshkimti khajana.

Teri hi ankhon se dekha hai maa mene,
Iss dunia ka anmol nazrana,
Jo kuch seekha hai tumse hi seekha hai,
Apni chhoti si kashti ko bas uss dariya mein hai bahana.

Apni sachhai ke anchal mein maa tum hamesha mujhko sehlana,
Chahe dukh ki ho aandhi ya sukh ka ho kaarwan,
Apni muskrahat ke phool ko har haal mein tum khilana.

Meri har mushkil ko maa tera zara mein pehchan jana,
Aur meri har kathinayi mein maa tera hamesha saath nibhana
Tere har ek kadam se mila hai maa mujhko,
Jeevan ka wo falsafa begana.

Tu khuda ka roop hai maa ya khuda tera roop hai ?
Shayad uss khuda ko apne roop mein tujhe tha banana....



माँ का प्यार

इस जिंदगी के रिश्तों के मौसम में,
यह रिश्ता होता है सबसे सुहाना,
उस माँ की ममता की गहराई में छिपा है,
एक बच्चे का बेशकीमती खज़ाना.

तेरी ही आँखों से देखा है माँ मैने,
इस दुनिया का अनमोल नज़राना,
जो कुछ सीखा है तुमसे ही सीखा है,
अपनी छोटी सी कश्ती को बस उस दरिया में है बहाना.

अपनी सच्चाई के आँचल में माँ तुम हमेशा मुझको सहलाना,
चाहे दुःख की हो आंधी या सुख का हो कारवां,
अपनी मुस्कराहट के फूल को हर हाल में तुम खिलाना.

मेरी हर मुश्किल को माँ तेरा ज़रा में पहचान जाना,
और मेरी हर कठिनाई में माँ तेरा हमेशा साथ निभाना
तेरे हर एक कदम से मिला है माँ मुझको,
जीवन का वो फलसफा बेगाना.

तू खुदा का रूप है माँ या खुदा तेरा रूप है ?
शायद उस खुदा को अपने रूप में तुझे था बनाना....


Dedicated to
For all mother's

 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017