Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

तू कुछ कर गुजर..बस कुछ कर गुजर

0
27 -Dec-2020 Scientist, Writer Spiritual Motivator Motivational Poems 0 Comments  103 Views
तू कुछ कर गुजर..बस कुछ कर गुजर

हर अंधेरे को एक सवेरा मिलता है हर कांटो के ताज पर फुल खिलता है। फिक्र क्यूं करना समस्याओ की हे मनूष्य? हर काले बादल को एक रोशनी का किनारा मिलता है। संघर्ष किए बिना जीत नही मिलती है। हर तूफान मे भी एक नयी कली खिलती ह

Pinjra /पिंजरा

0
07 -Nov-2020 shalu L. Motivational Poems 0 Comments  345 Views
Pinjra /पिंजरा

पिंजरा पंशियो का पंखो से नाता तोड़ कर उसे जीते जी लाचार करे तू, देख उदासी उनकी रोने पर भी हँसे तू आसमा में उड़ने के हौसले पंशी के शौक़ से जिंदगी पिंजरे में कैद करे तू। सोच अपनी भी एक जिंदगी है जिसका अपने ही कर्मो से नात

बेहतर

0
20 -Sep-2020 Madhu Motivational Poems 0 Comments  156 Views
बेहतर

बेहतर टूटने से तो बिखरना बेहतर, बिखरने से तो सिमटना बेहतर। ये लम्हों के मोती है जिंदगी के, अपनत्व की डोर में पिरोना बेहतर। माना आस- निराश के झूले में, कभी ऊपर -नीचे हो जाते हैं। आत्मबल की थाम के रस्सी, गिरने से तो सं

सुख और दुःख

0
19 -Sep-2020 Anand kumar (Manish) Motivational Poems 0 Comments  259 Views
सुख और दुःख

सुख और दुःख जीवन में आता जाता रहता है तू तो हिम्मत वाला है "ऐ इंसान" तू क्यों घबराता है दुःख में तू प्रभु का सुमिरन करता है सुख में क्यों भूल जाता है सुख में क्या होता है ऐसा जो तू प्रभु का स्मरण नहीं कर पाता है सुख जब

-अश्रु बहाना छोड़ दिया।।

0
31 -Aug-2020 Dr. Swati Gupta Motivational Poems 0 Comments  536 Views
-अश्रु बहाना छोड़ दिया।।

मुश्किलों से अब हमनें घबराना छोड़ दिया, छोटी छोटी बातों पर अश्रु बहाना छोड़ दिया। उम्मीद का दामन पकड़ा है जब से हमनें, निराशा ने इस दिल का आशियाना छोड़ दिया। आस की ज्योति जलाई अपने मन-मंदिर में मैंने अंधेरे ने बात-बात

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017