Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

मन में उम्मीदों की मशाल जलाये रखना

0
09 -Apr-2020 kunal bardia Motivational Poems 0 Comments  385 Views
मन में उम्मीदों की मशाल जलाये रखना

जब नीरस हो हर पल और ठहरा सा हो मन आँखों से ओझल हो उम्मीदों की किरण, जब अपनों से ही गम हो, और अपनों का ही वार, रिश्तों की उलझनों में जब मिलने लगे हार जब निराशा से लगने लगे व्यर्थ सा जीवन और इसे ख़त्म करने को आतुर हो काल का

चंचल मन संभाल कर, लक्ष्य लगा आकाश पर

0
09 -Apr-2020 kunal bardia Motivational Poems 0 Comments  229 Views
चंचल मन संभाल कर, लक्ष्य लगा आकाश पर

चंचल मन संभाल कर, लक्ष्य लगा आकाश पर कर विजय निज द्वन्द पर, छु सफलता का शिखर उठते रहना गिर गिर कर, रुक न जाना घबरा कर दुश्मनों के वार पर, निराश न होना कभी हार पर क्षण भर की निराशा को न मानना जीवन का सफ़र कर विजय निज द्वन

Cloudy Dust

0
09 -Apr-2020 Satyam Devu Motivational Poems 0 Comments  199 Views
Cloudy Dust

Remove Your Dust, Upon Your Crust. You are as Shinning Star, Not As Dependent Moon. Thick Cloud As Dust, Stopping Your Brighten Light. Get Out From Cloudy Dust. You Will Shine On Your Own Height. Remove Your Dust, Upon Your Crust. ~Satyam Kumar Singh

आनंद हूँ मैं ...

0
06 -Apr-2020 nil Motivational Poems 0 Comments  88 Views
आनंद हूँ मैं ...

आनंद हूँ मैं ... मेरे देश बसियो /और विश्वग्राम बासियो अदना सा आदमी मैं फिलहाल समय समाज इतिहास को तो नहीं मोड़ सकता परन्तु जैसा सहयात्रियों का मानना हैं कि : मैं प्रातिभा संपन्न वरिष्ट साहित्यकार /कविहूँ शब्दों के व

तू क्यूं जीना चाहता है.....

0
05 -Apr-2020 DassY Motivational Poems 0 Comments  195 Views
तू क्यूं जीना चाहता है.....

तू क्यूं जीना चाहता है जैसे जी रहें हैं सारी छोड़ मारामारी छोड़ दुनियादारी अब है यही समझदारी वर्तमान पर ध्यान दे बाकी बातों का ना तू ज्ञान ले जोर लगा, मान नहीं हार रे है तुझमें दिखा दे, कितनी औकात रे ना समझ नाकामया

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017