Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

नर से निशाचर

0
06 -Oct-2021 Kumar Ashish Motivational Poems 0 Comments  113 Views
नर से निशाचर

नर जब नर से निशाचर बन जायेगा तब रब भी अपना कहर दिखायेगा प्रकृती प्रदत्य भोज्य छोड़ छोड़ के ब्रम्ह बतलाये भोज्य जब न खायेगा कुत्ता, बिल्ली, बिच्छू से लेकर के गधा, घोडा औ मगरमच्छ खायेगा नर जब नर से निशाचर बन जायेगा तब

Jeete Chale

0
20 -Sep-2021 khamosh Shayar Motivational Poems 0 Comments  131 Views
Jeete Chale

Do pal ke ye jindagani hai, Aj bachpan, kal jawani, parso bhudapa, Fir khatam hojane ye meri kahani hai Chalo jee liya jaye ye waqt khul kar, Fir na laut ke ayege ye raat badi suhani hai, Fir na laut ke ayege ye din ke kahani hai. Kyu tham ke baithe ho kal ki baat purani hai, Kyu aane wale waqt ke chinta mai chita jalate ho, Jee lo khul kae ye pal, Kal hona ho iss baat ke kisko jaankaree hai. Aao jindage ko gaate chale, मन ke baato ko pano pe likhate chale, Rutho ko manaate chale, Chalo jindage ko khul ke jeete chale. Aao jindage ke kahani

तू जननी है!

0
15 -Sep-2021 Khushi Motivational Poems 0 Comments  82 Views
तू जननी है!

तुझे लड़ना है सबसे, तू जननी है! कभी तू मां है,कभी तू बेटी है, कभी तू पत्नी है, कभी तू सहेली है! तुझे लड़ना है सबसे, तू जननी है! कभी अपनी खुशी के लिए, कभी अपने अधिकार के लिए, कभी अपनी आजादी के लिए, कभी अपने संस्कारों के लिए,

समय रुका न

0
05 -Sep-2021 rtripathi Motivational Poems 0 Comments  211 Views
समय रुका न

समय रुका न समय रुका न मेरे लिए न तेरे लिए फिर क्यू ठहरा है उसके लिए चल बढ़ जा तू देख सही मंज़र इससे कुछ कम नये नहीं--- नदियाँ ठहरे यह चरित्र नहीं मिलता निर्मल जल उसकी निरन्तरता में ही चल बढ़ जा तू देख सही मंज़र इससे कछ

प्यार का संदेश

1
19 -Aug-2021 Shoaib Khan Motivational Poems 0 Comments  264 Views
प्यार का संदेश

वह इंसान ही क्या, जिसके हृदय मे भाव नही। वो वृक्ष ही क्या, जिसके तले छाँव नही। इंसान बस दूसरे की मदद करे, क्यों कि अच्छे लोग करते भेद भाव नही। सब प्यार मोहब्बत से मिलजुल के रहे, क्योंकि अच्छे लोग छोड़ते सदभाव नही। अप

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017