Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

E Dil......

1
14 -Nov-2014 jaspreet kaur Motivational Poems 0 Comments  1,161 Views
jaspreet kaur

E Dil......ik khushi k liye dar-b-dar bhatkta h kyun,
khushi nahi tau kya, uski umid hi sahi,
subh se lekar aakhir raat tk chalta h kyun,
manjil nhi tau kya, musafir hi sahi..........
E Dil......kyun khushi k lie din raat rota h,
jaagte hue bhi sapno ki duniya me sota h,
paas hote hue bhi choti-choti in khushiyo ko,
bas or jyada k lie kho deta h........
E Dil......khush rahna apna mijaj rakha kar,
khushi ko na gam ka muhtaj rakha kar,
khushion me tau sab hanste h,
par tu kbhi dukho pe bhi naaj rakha kar......
E Dil......jo paas h uske lie kbhi khush nahi hota,
or jo paya hi nahi uske lie rahta h rota,
pakar dunia ki har khushi ko bhi,
kyun aansuyo ka sailaab tera kam nahi hota....
E Dil.....har pal, har lamha itna khush rah
ki akhir har khushi ko bhi tere
daaman me aana hi hoga,
or fir dekh tu har jrre-jrre ka maksad
tujhe hnsana hi hoga.......
E Dil.....kyun aankh moond kar baitha h,
ki roshni abhi mere ghar se door h,
dastak deti h har khushi teri chokhat par,
par tu kahta h ki tu majboor h.......
E Dil.....E dil is duniya k bahaav me tujhe bhi bahna hoga,
sach ko jhooth or jhooth ko sach hi kahna hoga,
koi nahi aayega gam me tere aansu ponshne,
chahe jhutha hi sahi tujhe khush hi rahna hoga......



ए दिल ......

ए दिल......इक खुशी के लिये दर-ब-दर भटकता है क्यों
खुशी नही तो क्या, उसकी उम्मीद ही सही,
सुबह से लेकर आख़िर रात तक चलता है क्यों,
मंज़िल नहीं तो क्या, मुसाफिर ही सही..........
ए दिल......क्यों खुशी के लिये दिन रात रोता है,
जागते हुए भी सपनो की दुनिया में सोता है,
पास होते हुए भी छोटी-छोटी इन खुशियों को,
बस और ज़्यादा के लिये खो देता है........
ए दिल......खुश रहना अपना मिज़ाज रखा कर,
खुशी को न गम का मुहताज रखा कर,
खुशियों में तो सब हँसते हैं,
पर तू कभी दुखों पे भी नाज़ रखा कर......
ए दिल......जो पास है उसके लिये कभी खुश नहीं होता,
और जो पाया ही नही उसके लिये रहता है रोता,
पाकर दुनिया की हर खुशी को भी,
क्यों आंसुओं का सैलाब तेरा कम नहीं होता....
ए दिल.....हर पल, हर लम्हा इतना खुश रह
कि आख़िर हर खुशी को भी तेरे
दामन में आना ही होगा,
ओर फिर देख तू हर ज़र्रे -ज़र्रे का मकसद
तुझे हँसना ही होगा.......
ए दिल.....क्यों आँख मूंद कर बैठा है,
कि रोशनी अभी मेरे घर से दूर है,
दस्तक देती है हर खुशी तेरी चौखट पर,
पर तू कहता है कि तू मजबूर है.......
ए दिल.....ए दिल इस दुनिया के बहाव में तुझे भी बहना होगा,
सच को झूठ और झूठ को सच ही कहना होगा,
कोई नही आयेगा गम में तेरे आँसू पोंछने,
चाहे झूठा ही सही तुझे खुश ही रहना होगा......


 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017