Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

VASHAKHIYON PAR ITRATE LOG

0
28 -Feb-2013 Sharma Motivational Poems 0 Comments  1,754 Views
Sharma

aaj fir
ucht gai neend
or dino ki tarh !

shor-sharaba
mahngai
berozgari
gundagardi
rishwat
dhokha
chhal-kapt
freb
chinghadte huye
badh rahe hain
andhere me meri or !!!

kouve or shrrigal
noch rahe hain
lavaarish lashon ko /dekh raha hun
panjjon ke bal uchhl kar
bonna-pan chhupa rahe hain log !
raag darwaari ka aalap
goonz raha hai fizaon me
huaa!huaa!!ki aawaze
aarahi hai mandon se !

ik hangama hai charon or
desh me samazwaad aa raha hai
desh ka dhan videsh jaa raha hai !
tabooton se bhi
kuchh nichoda ja raha hai !
vesaakhiyon par khada hai
apahizon ka bada hazooom /jo
bhart mata ji jai bol raha hai
fir aaj neend nahi aa rahi hai
or dino ki tarh !!!

----------------0-------------------
himachalprdesh
28/2/2013



वेसाखियों पर इतराते लोग

आज फिर
उचट गई नींद
और दिनों की तरह !


शोर-शराबा
मंहगाई
बेरोजगारी
गुंडागर्दी
रिश्वत
धोखा
छल-कपट
फरेब
चिंघाड़ते हुए
बढ़ रहे हैं
अँधेरे में मेरी और !

कोवे और श्रृगाल
नोच रहे हैं लावारिश लाशों को
पंज्जो के बल उछल कर
बोनापन छुपा रहे हैं लोग
राग दरवारी का आलाप
गूंज रहा है फिजाओं में
हुआ-!हुआ!!की आवाजें
आरही है मंदों से !

इक हंगामा है चरों तरफ
देश में समाजवाद आ रहा है
देश का धन ,विदेश जा रहा है
ताबूतों से भी कुछ
निचोड़ा जा रहा है
वेसखियों पर खड़ा
अपाहिजों का बड़ा हजूम
भारत माता की जय बोल रहाहै !
आज फिर नींद नहीं आरहीहै
और दिनों की तरह !!!

--------------------०----------------


४/३/2013


 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017