Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

कोरोना

0
06 -Apr-2020 Mamta Rani Natural Disasters Poems 0 Comments  104 Views
कोरोना

कोरोना ने ऐसा है जाल बिछाया सबकी जिंदगी को बेबस बनाया एक दूसरे से मिलने को रोक लगाया साथ में कितने शहरों को लॉकडाउन कराया स्वास्थ्य कर्मियों ने ऐसा कदम उठाया सबके दिलों में अपना जगह बनाया जनता कर्फ्यू पर लोगों

कोरोना का डर है....!!!!!!!

0
03 -Apr-2020 Shivendra Singh Natural Disasters Poems 0 Comments  266 Views
कोरोना का डर है....!!!!!!!

कोरोना का डर है , हर कोई अपने घर है | बाजार पडे़ अब सूने , सड़कों में भरा सन्नाटा | तेज ऱफ्तार से दौड़ने वाले , वाहन बंद पडे़ हैं | डाक्टर,नर्स,मीडिया,पुलिस और देश के प्रहरी , अपने-अपने कर्तव्य पथ पर वे डटे खडे़ हैं | कोरो

इंसान (Abbas)

0
01 -Apr-2020 Abbas Bohari Natural Disasters Poems 0 Comments  169 Views
इंसान (Abbas)

सड़ाकर मिट्टी अल्लाह ने बनाया इंसान भूलकर अपनी पैदाइश बन रहा महान भूल गया यहां है कुछ पल का मेहमान लगा बैठा आंस दुनिया से जो नाशवान लूटकर माल गरीबों का बन बैठा धनवान मुँह की खाएगा लेगा हिसाब जब भगवान सम्भल जा जब त

पिंजरा (Abbas)

0
01 -Apr-2020 Abbas Bohari Natural Disasters Poems 0 Comments  187 Views
पिंजरा (Abbas)

मालिक ने बनाये ज़मीन ओ आसमान बसाये चरिंदे दरिंदे परिंदे इंसा मेहमान जल थल वायु में सबका बराबर हिस्सा अम्नो प्रेम से चलता रहा बरसो किस्सा लालच में आकर इंसा ने लगाई अक्ल मचाकर तबाही बदली धरती की शक्ल घने हरे भरे जं

कृपा-निधान

0
27 -Mar-2020 satyadeo vishwakarma Natural Disasters Poems 0 Comments  369 Views
कृपा-निधान

कृपा-निधान हाथ जोड़कर विनती करता हूँ मैं कृपानिधान, कोरोना मुक्त हो सकल जहान, जाने कहाँ से आन पड़ी है कोरोना की बीमारी, तड़प रहे हैं जग में हो असहाय सभी नरनारी, कष्ट मिटा दो पालन कर्ता देहु यही वरदान- कोरोना मुक्त ----- ड

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017