Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Kedar ghati men jal pralay

1
05 -Jul-2013 Harjeet Nishad Natural Disasters Poems 0 Comments  4,274 Views
Harjeet Nishad

Kedar ghati men jal pralay ke bad man bahut huwa betab.
Hajaron parivaron ki aankhon se baha aansuvon ka sailab.
Gam aur asha ke beech dubate aur utarate rahe log,
Shesh rah gaye hathon men unake photo ankhon men khwab.

Kahan gaye mata pita bandhu sakha pahunche nahin aaj tak gher.
Rahat kampon aspatalon men bhatakate rahe dil men liye der.
Sahas layen kitana kahan se date bhi kab tak talash men,
He prabhu ! door ker do dukh ki ghatayen ker do piditon ko nider.

Peeda ki is ghadi men vishwas ki raksha badi bat hai.
Apanon ko dhundhate huve bhatakana dopahari men jaise kali rat hai.
Galatiyan hoti hain hamse prabhu ham bachche anjan hain,
Aisa ab kabhi bhi kahin bhi na ho dil men bas yahi jajabat hain.

Kedar ghati men jal pralay


केदार घाटी में जल प्रलय

केदार घाटी में जल प्रलय के बाद मन बहुत हुआ बेताब I
हजारों परिवारों की आँखों से बहा आँसुओं का सैलाब I
ग़म और आशा के बीच डूबते और उतराते रहे लोग I
शेष रह गए हाथों में उनके फोटो आँखों में ख्वाब I

कहाँ गए माता पिता बन्धु सखा पहुँचे नहीं आज तक घर I
राहत कैम्पों अस्पतालों में भटकते रहे दिल में लिए डर I
साहस लायें कितना कहाँ से डटें भी कब तक तलाश में I
हे प्रभु ! दूर कर दो दुःख की घटायें कर दो पीड़ितों को निडर I

पीड़ा की इस घड़ी में विश्वास की रक्षा बड़ी बात है I
अपनों को ढूँढते हुवे भटकना दोपहरी में जैसे काली रात है I
गलतियाँ होती हैं हमसे प्रभु हम बच्चे अनजान हैं I
ऐसा अब कभी भी कहीं भी न हो दिल में बस यही जज़बात हैं I


Dedicated to
Jal pralay peediton ko

 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017