Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

KUDRAT KI SEEKH

1
09 -May-2015 Ashwani Kumar Natural Disasters Poems 0 Comments  2,844 Views
Ashwani Kumar

Karm dekh ke insaanon ke, kudrat ko gussa aaya hai,
isiliye ab ja kar ke, Jaljala saamne laaya hai,
bahut saha kudrat ne ab tak, isiliye sab thik raha,
manav samjha nahin ishaare, ab ja kar ke seekh raha.

Papaachaar aur atyachaar ko, isaanon ne paala hai,
ab ye har ghar mein ja baitha, wahin pe dera daala hai,
budhi maa ko isane to, ghar se nikaal ke rakha hai,
ajeeb shauk hai bete ka, kutton ko paal ke rakha hai.

Bhai-bhai ab lad rahe hain, kaisi kitaab padh rahe hain,
raah satya ki chhod ke ye, vipreet disha mein badh rahe hain.
insaa baat na samajh raha, bas man ki maan ye leta hai,
baat kisi ki lage buri to, usaki jaan ye leta hai,

Bin mausam baarish karke, kudrat ne pahale sachet kiya,
fir garmi ke mausam mein, humein barf ka gola bhent kiya,
insaan nahin ho tum kuchh bhi, na koi tumhari hasti hai,
bhukamp ke jariye batlaaya, ho jaani fanaa ye basti hai,

SATGURU aapse haath jod kar yahi prarthna karte hain,
aapka haath ho sir par sabke, kyonki hum to darte hain,
aisi aapda- aisi trashdi, mein fans kar na koi mare,
haalaat ho behatar dharti ke, "JATAN" yahaan sab yahi karein.



कुदरत की सीख

कर्म देख के इंसानों के, कुदरत को गुस्सा आया है,
इसीलिए अब जा कर के, ज़लज़ला सामने लाया है,
बहुत सहा कुदरत ने अब तक, इसीलिए सब ठीक रहा,
मानव समझा नहीं इशारे, अब जा कर के सीख रहा.

पापाचार और अत्याचार को, इंसानों ने पाला है,
अब ये हर घर में जा बैठा, वहीं पे डेरा डाला है,
बूढ़ी माँ को इसने तो, घर से निकाल के रखा है,
अजीब शौक है बेटे का, कुत्तों को पाल के रखा है.

भाई-भाई अब लड़ रहे हैं, कैसी किताब पढ़ रहे हैं,
राह सत्य की छोड़ के ये, विपरीत दिशा में बढ़ रहे हैं.
इंसा बात न समझ रहा, बस मन की मान ये लेता है,
बात किसी की लगे बुरी तो, उसकी जान ये लेता है,

बिन मौसम बारिश करके, कुदरत ने पहले सचेत किया,
फिर गर्मी के मौसम में, हमें बर्फ का गोला भेंट किया,
इंसान नहीं हो तुम कुछ भी, न कोई तुम्हारी हस्ती है,
भूकंप के जरिये बतलाया, हो जानी फ़ना ये बस्ती है,

सतगुरु आपसे हाथ जोड़ कर यही प्रार्थना करते हैं,
आपका हाथ हो सिर पर सबके, क्योंकि हम तो डरते हैं,
ऐसी आपदा- ऐसी त्रासदी, में फँस कर न कोई मरे,
हालात हो बेहतर धरती के, "जतन" यहाँ सब यही करें.


 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017