Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

नूतन हिन्दुस्तान बनो

1
विकास त्रिवेदी 'प्रलय'

भाभा और अब्दुल कलाम से विज्ञानी बन जाओ तुम,
न्यूटन, थॉमस और एडिसन से ज्ञानी बन जाओ तुम !
कर्मयोग स्वामी विवेक से शून्य समाधी ओशो से,
सीखो साधना परमहंस से और ध्यानी बन जाओ तुम !!
जैसा की उत्कर्ष नाम है सूरज सा दिनमान बनो,
इस युग को इक नयी दिशा दो स्वर्णिम नवल विहान बनो !
एम. विश्वेश्वरैया बनकर कीर्तिमान रच डालो तुम,
ई. श्रीधरन, सतीश धवन सा नूतन हिन्दुस्तान बनो !!

नूतन हिन्दुस्तान बनो


Dedicated to
उत्कर्ष बाजपेई

Dedication Summary
प्रिय उत्कर्ष,
इस स्वर्णिम जन्मदिवस की अनंतकोटि शुभकामनाएं !!
स्नेहिल आशीष सहित ईश्वर से प्रार्थना है की जीवन में महान् आत्मविश्वास, भविष्य के प्रति सुन्दर आकाँक्षायें लेकर अपने नाम की भांति उत्तरोत्तर प्रगतिपथ पर अग्रसर हो !

 Please Login to rate it.



You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

4 More responses

  • विकास त्रिवेदी
    Commented on 18-May-2018

    @Shoaib Khan
    बहुत आभार सर !!.

  • विकास त्रिवेदी
    Commented on 18-May-2018

    @Ajay Pratap
    आभार मित्र.

  • poemocean logo
    Ajay Pratap (Guest)
    Commented on 18-May-2018

    बहुत शानदार जन्मदिवस बधाई कविता.

  • poemocean logo
    Shoaib Khan (Guest)
    Commented on 18-May-2018

    Vikas Bhai aapki bohat saari poem hmne aapke facebook id pe padhi hai or apki sabhi poem dil ko chu leti hai, aapse anurodh h aap isi trah apni achchi poems se hme awgat krate rhiye or poem k is naye andaaz ko hmare samne khud ki bhawnao ko wyakt krte rahiye...aapka chahita dost Shoaib Khan from lucknow...

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017