ये बुढ़ापा

1
24 -Apr-2017 Neha Sonali Agrawal Old People Poems 1 Comments  1,396 Views
ये बुढ़ापा

उम्र की हर ऋतु का, बन जाए जो समागम, ऐसी सोंधी खुश्बू सा, होता बुढ़ापे का मौसम. जीवन की राहों में, बेनाम हुए जो अरमान, बुढ़ापे के अंशुल ने, दी उन्हे हसीन उड़ान. चाहतों के लेकर पंख नये, आया है बुढ़ापे का पढ़ाव. बचपन ने सुन

Vo jo chehre per silvete tamam rekhte hai

0
09 -Apr-2017 Jyoti Old People Poems 0 Comments  1,081 Views
Vo jo chehre per silvete tamam rekhte hai

वो जो चेहरे पर सिलवटें तमाम रखते है अनुभवों से ज़िन्दगी को सरेआम रखते है न जरूरत है उन्हें आइनों की अब दुसरों की आँखों में अपने अक्स की पहचान रखते है जमाना कहता जिसे उम्र हम कहते उसे ख्वाब खूबसूरत नेमत है उन पर खुद

Vat-vriksh Ki Chhaya

1
12 -Jan-2017 Parth Old People Poems 0 Comments  2,340 Views
Vat-vriksh Ki Chhaya

पौधे को अब नहीं चाहिए वट-वृक्ष की छाया, बड़े प्यार से पाला फिर भी बेटा हुआ पराया । भूल गई मां खुद सोना पर उसे चैन की नींद सुलाया, दूर देश में बस गया वो पर मां को नहीं बुलाया । बापू ने उँगली थामी थी चलना उसे सिखाया, लाठी

Lo ! Dhal Gai Saanjh!!

0
10 -Jan-2017 Gianchandsharma Old People Poems 0 Comments  629 Views
Lo ! Dhal Gai Saanjh!!

शब्द निशब्द खुशिया बाँझ लो! ढल गयी जीवन साँझ ! अटकी रह गयी सांसों की डोर पीछे छूटी सुहानी भोर ! याद आने लगे बिछुड़े मीत थकी देह जैसे बालू की भीत! शब्द निशब्द खुशियाँ बाँझ लो !ढल गयी जीवन साँझ! ---------------

Budhapa

0
04 -Dec-2016 Abhijit Kumar Old People Poems 0 Comments  1,298 Views
Budhapa

yeh umer hui u thake hue the hum dusro ke sahare base hue the hum socha naa tha is kdr payenge khud ko lachaar haddiyo me u kase hue the hum yaad aa rahe the wo pal jab apno ka sahara the hum ab na chah ke bhi unki khushiyon me badha the hum chah kr na ja paye hum kahi lathi kaa sahara liye majboor the hum baithe hue apne jaise ki halat dekh khudaa ke liye khush naseeb the hum waqt ne bhdda mazak kiya esaa akser sochate the hum kya kb ho jaye is bhaddi zindagi ko koste the hum per gujre waqt ke saath ehsas ho gaya ki yeh din sab ke aayenge ab t

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017