Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

कुछ करने की अब बारी है

0
19 -Feb-2019 Sunil Sharma Patriotic Poems 0 Comments  112 Views
कुछ करने की अब बारी है

फिर बहा खून वीर जवानो का फिर खोला खून हर हिंदुस्तानी का जो देश है बापू का अहिंशा के पुजारी का उसके हर वासी के दिल में कुछ करने की तमन्ना जागी है कथनी नहीं कुछ करने की अब हमने ठानी है | दिलो में दबी चिंगारी फिर आज जला

घर आए जब खून से लथपथ, भारत देश के वीर जवान...!!

1
16 -Feb-2019 pravin tiwari Patriotic Poems 0 Comments  181 Views
घर आए जब खून से लथपथ, भारत देश के वीर जवान...!!

टूट गई हाथों की चूड़ी, उजड़ गया माथे का सिन्दूर... घर आए जब खून से लथपथ, भारत देश के वीर जवान... रोते बिलखते बच्चे पुछे, पापा मेरे कहां गए...? कैसे बताएं उन मासूमों को, अब पापा उनके नहीं रहे... घर का था वो एक सहारा, बुढ़े मां-

सुधर जा पाकिस्तान

0
09 -Feb-2019 Pt. Sanjeev Shukla Sachin Patriotic Poems 0 Comments  102 Views
सुधर जा पाकिस्तान

भारत का हर लाल कह रहा, सुन ले पाकिस्तान। अगर सलामत रहना चाहे, त्याग जरा अभिमान।। नीज कर्म से सदा कलंकित, करता उल्टे काम। तनी भीर्कुटी गर भारत की, मिटे जगत से नाम।। आतंकी हमले करता है, नहीं सुने तू बात। जिसके टुकड़ों

मेरा देश / Mera desh

0
30 -Jan-2019 satyadeo vishwakarma Patriotic Poems 0 Comments  151 Views
मेरा देश / Mera desh

मेरा देश जब जब दोगे आवाज़ मुझे मैं पास तुम्हारे आऊँगा। जाने दो आज मुझे एक दिन मैं तुझे हँसाने आऊँगा । जब जब बहनो की चीर कोई दुशाशन बन कर खींचेगा, जब जब शोषित दलितों की अस्मत से कोई रावण खेलेगा , जब जब भूखा नंगा बचपन र

नाज हमेंं अपनी सेना पर

0
नाज हमेंं अपनी सेना पर

कुछ पंक्तियाँ देश के वीर जवानों के नाम..!! नाज हमें अपनी सेना पर...! नाज हमें अपनी सेना पर है फक्र इनके बलिदानों पर खातिर देश की रक्षा की जो लिखते नाम लहू से चट्टानों पर.!! फिक्र न रहती ठंड की इनको ना चिंता गर्मी की होती

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017