Latest poems on teachers day, sikshak diwas kavita

मतदान: क्यो बिक जाता मतदाता

0
03 -Dec-2018 Abbas Bohari Politics Poem 0 Comments  209 Views
मतदान: क्यो बिक जाता मतदाता

पिता पर गुज़रता भारी, कन्यादान हम भारतीय यूंही कर देते, मतदान आज रवि हुआ, क्या पश्चिम से उदय बरसो बाद जो पधारे, नेताजी महोदय आ गया चुनाव, प्रहरी दे रहा दस्तक बैठे घात लगाए, कर दो देश हस्तक फ़िर वही वादे, जता रहे अपने इर

आ गये है चुनाव

0
27 -Nov-2018 Jyoti Politics Poem 0 Comments  185 Views
आ गये है चुनाव

देख कर चलो रे ! भइया आ गये है चुनाव सभी दलों ने की है राजनीति अपने को अच्छा साबित करने की मची है होड़ धर्म ,जाति ,मजहब बन गये है वोट बैंक कोई नेता देता लालच पैसों, नौकरी ,कपड़ों का कोई फेंके शब्दों का मायाजाल न फसना अब तु

राजनीती और आम आदमी

1
13 -Nov-2018 Sunil Sharma Politics Poem 0 Comments  239 Views
राजनीती और आम आदमी

राजनीती और आम आदमी राजनीती में भ्रष्टाचारियो की जमात लगी है कौन चील कौन कौआ साबित करने की होड़ लगी है | कोई धरम पर रोटी सैक रहा कोई जातिवाद की आड़ ले रहा कोई तो किसान को भी नहीं छोड़ रहा | महंगाई का यह आलम है रुकना का नाम

नये अछुत

0
02 -Oct-2018 jagmohan jetha Politics Poem 0 Comments  118 Views
नये अछुत

"नये अछुत " जिसे हमने "संसद" का मन्दिर था है सौपा उन्होने ही हमारी पीठ पर खंजर है घोपा वोटो का राजनीति का ऐसा चढा है इन्हे "भूत" बना दिया हमको"नये अछुत" मजाक बना दिया इन्होने भारत के "संविधान" को इन्सान ही बॉट रहा यहा "इ

Mera desh sach me badal raha hai

0
25 -Sep-2018 Bimal Shahi Politics Poem 0 Comments  106 Views
Mera desh sach me badal raha hai

Mera desh sach me badal raha hai satta ke liye har koi ,chaal chal raha hai Jo aaye the mandir banane ke liye Wo Triple Talaq par kanoon banane lage Jo kahte the, hinduon ko aatankvadi Wo tirth aur kailash mansrovar jane lage Koi aaye the bhrashtachar ke khilaf ladte ladte Wo aaj khud bhrashtachar me jail ki hawa khane lage Apne hatho se apni vichardhara ko nigal raha hai Mera desh sach me badal raha hai Jo hua karte the aapas me shatru kabhi Ab darr ke mare sath chalne lage Futi ankh jo nahi suhate the kal tak Aaj has kar bhari sabha me gale m

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017