चुनाव आया

1
23 -Nov-2017 Ompriya Anurupa Politics Poem 0 Comments  20 Views
चुनाव आया

देखो देखो चुनाव आया, देखो देखो; गाड़ी, झाड़ू, लालटेन लाया; देखो देखो। कहीं सड़क यहाँ की टूटी, बन जाए न इनकी किस्मत फूटी, अमरीका जैसी बन जाए रोड, सरपट रोड रोलर आया, देखो देखो चुनाव आया देखो देखो। गाड़ी, झाड़ू, लालटेन लाया, दे

Kangaali ke sapne

0
03 -Nov-2017 vivekanand popuri Politics Poem 0 Comments  70 Views
Kangaali ke sapne

सपनों की चक्की पीसी रातों रात , राहुलजी उठकर चल पड़े गुजरात , हाथ खूब पेहराए पर कोई न आए हाथ , जब लोगों न सुनी उनकी एक बात , घबराकर मंदिरों में घुसे आपात , मान गए , न सुधरेंगे ये मगरमछछ की जात , हिंदुओं को देनी अब जूतों की

Rahul ka race

0
03 -Nov-2017 vivekanand popuri Politics Poem 0 Comments  31 Views
Rahul ka race

लोगों ने कांग्रेस को देश से फेंका, माँ ने भी राहुल को बार बार रोका, नादान बेचारा हर कदम पर चूका, हार निगला सेंका सेंका , यहाँ तो न मोदी का हुआ बाल बांका, विदेश जाकर जलन से चीखा, उम्मीद ज्यादा और क्या ऐसे नेता का, भारत न

KOMAL KAMAL

0
03 -Nov-2017 vivekanand popuri Politics Poem 0 Comments  20 Views
KOMAL KAMAL

when kamal hasans commentedon hindu terrorism यह कमल अभी खिला नही खिले हुए कमल पर खौल रहा यूंही हिन्दुओं से रंग मिला सही यह सितारा अब ओला बरसा रहा कहीं अजी बाएं हाथ का कोई खेल नही राजनीति से अभी तो पाला पड़ी होश आए तो ढूँढ लेना चले जहाँ तुम्हा

Main bahut bada secular hoon

0
26 -Oct-2017 Bimal Shahi Politics Poem 0 Comments  127 Views
Main bahut bada secular hoon

Ha main bahut bada secular hoon Gart me dhasa hoon bas dikhta zameen ke upar hoon Ha main bahut bada secular hoon Intellectual kahte hain sab , par pura anpad hoon Ha main bahut bada secular hoon Kashimiri pandito ko bahar nikalo,Rohingaya ke punarwas ka pakshdhar hoon Ha main bahut bada secular hoon Gandhi parivaar ka chamcha ek number hoon Ha main bahut bada secular hoon Iftar party par dikhunga,Ramnavmi ke din nahi aata nazar hoon Ha main bahut bada secular hoon Ram name se nafrat hai,zakir nayik ka zahar hoon Ha main bahut bada secular hoon

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017