Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

इक़रार

0
01 -Apr-2020 Abbas Bohari Prayer Poem 0 Comments  59 Views
इक़रार

करोना से बचने के किये सारे पूर्वोपाय फ़िर भी हो गया संक्रमित बना असहाय नौन तेल लकड़ी कमाना बना बस बहाना चिड़िया चुग गई खेत अब क्या पछताना पूरे बदन में ऐसा ताप जैसे उठ रहे शोले कसमसा रहा अंग अंग लब कुछ ना बोले तड़पते फे

एक और प्रार्थना

0
14 -Mar-2020 Abbas Bohari Prayer Poem 0 Comments  122 Views
एक और प्रार्थना

हक़ीर कीड़ा तो बना बस बहाना अफ़रातफ़री में यूँ घिरा ज़माना सर पर पड़ी मुसिबतों से है जाना ख़ालिक़ की हस्ती को सबने माना तेरे आगे इंसान लगे कितना बौना ढूंढ रहे ईलाज लुटाकर चांदी सोना मालिक तेरे बन्दे गाए तेरा तराना कर ले

एक प्रार्थना

0
14 -Mar-2020 Abbas Bohari Prayer Poem 0 Comments  91 Views
एक प्रार्थना

जिसके जाने बिना कोई पत्ता भी नही गिरता अपने बन्दों को देता है तो कभी नही गिनता क्या मुस्लिम क्या हिंदू बुद्ध जैन सिख ईसाई देता उसे भी जिसने ना मानने की कसम खाई तु ही तो है जनक तु ही पालनहार संसारका नही कोई भागीदार

Prabhu ji De Do Dya Ka Daan

0
24 -Aug-2019 Ramavadh Ram Prayer Poem 0 Comments  175 Views
Prabhu ji De Do Dya Ka Daan

Prabhu ji de do dya ka daan, jeevan mein na ho vyavdhan. Dookh santap sabhi mit jaayein, door rahein vipda na aayein. Mann mein ho gunon ka vaas, avgun ka ho jaaye naash. Sundar ho jaaye savbhaav, apnepan wala ho bhaav. Nis-din naam tumhara dhyaaun, tere gunon ka yash gaaun. Prabhu ji de do dya ka daan, jeevan mein na ho vyavdhan.

लघु वंदना

0
14 -Mar-2019 mannu bhai Prayer Poem 0 Comments  281 Views
लघु वंदना

सरण साँवरे सुमर सुमर उर तोहे साँवरे। तरस गये यह नयन बावरे। कागज की है मेरी नाँव रे। पहुंचादो सागर पार ठांव रे। शत्रु हो गया पूरा गांव रे। आस मेरी बस तेरे पांव रे। जे पाये तेरी कृपा छांव रे। बढेंगे ताँके शीघ्र भाव

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017