Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

प्रभु मिलान की आस

0
13 -Sep-2020 Madhu Prayer Poem 0 Comments  288 Views
प्रभु मिलान की आस

प्रभु मिलान की आस एक खाई के इस पार हूँ मैं, और उस पार है तू। आस लगाए बैठी हूँ मैं, कब आएगा तू। तेरे दीदार की प्यासी हूँ मैं, जाने कब प्रभु मिलना होगा। कब तक करूँ इंतज़ार, पर करना होगा। ना था एहसास मुझे कि , तुझे पाना इतना

आजा तू ही बचाने इस "कोरोना" से बन फरिश्ता

0
09 -May-2020 jagmohan jetha Prayer Poem 0 Comments  767 Views
आजा तू ही बचाने इस

न हवाई जहाज चल रहे ना चल रही कोई "मोटररिक्शा" हे भगवान....... ये तू कैसी ले रहा परीक्षा सरकार मांग रही जनता से "भिक्षा" की कुछ दिन घर में ही रहने की तुम लो "दीक्षा" हे भगवान....... ये तू कैसी ले रहा परीक्षा अपने ही मद में चूर थे

इक़रार

0
01 -Apr-2020 Abbas Bohari Prayer Poem 0 Comments  333 Views
इक़रार

करोना से बचने के किये सारे पूर्वोपाय फ़िर भी हो गया संक्रमित बना असहाय नौन तेल लकड़ी कमाना बना बस बहाना चिड़िया चुग गई खेत अब क्या पछताना पूरे बदन में ऐसा ताप जैसे उठ रहे शोले कसमसा रहा अंग अंग लब कुछ ना बोले तड़पते फे

एक और प्रार्थना

0
14 -Mar-2020 Abbas Bohari Prayer Poem 0 Comments  516 Views
एक और प्रार्थना

हक़ीर कीड़ा तो बना बस बहाना अफ़रातफ़री में यूँ घिरा ज़माना सर पर पड़ी मुसिबतों से है जाना ख़ालिक़ की हस्ती को सबने माना तेरे आगे इंसान लगे कितना बौना ढूंढ रहे ईलाज लुटाकर चांदी सोना मालिक तेरे बन्दे गाए तेरा तराना कर ले

एक प्रार्थना

0
14 -Mar-2020 Abbas Bohari Prayer Poem 0 Comments  773 Views
एक प्रार्थना

जिसके जाने बिना कोई पत्ता भी नही गिरता अपने बन्दों को देता है तो कभी नही गिनता क्या मुस्लिम क्या हिंदू बुद्ध जैन सिख ईसाई देता उसे भी जिसने ना मानने की कसम खाई तु ही तो है जनक तु ही पालनहार संसारका नही कोई भागीदार

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017