Latest poems on teachers day, sikshak diwas kavita

पैरोंकी जोड़ी

0
12 -Nov-2018 Abbas Bohari Prayer Poem 0 Comments  210 Views
पैरोंकी जोड़ी

पैरोंकी जोड़ी चली मीलो मीलका अंतर दाया बाया बनाकर संतुलन समानांतर अब बढ़ चली आयु थक रहा बदन जीवन की संध्या बसे अपने सदन कैसे करूँ सजदा मानने तेरा उपकार घुटनों के दर्द का करू कुछ उपचार जीवन की आपाधापी में बिताए साल

Khwahishe

0
25 -Oct-2018 Sunil Sharma Prayer Poem 0 Comments  41 Views
Khwahishe

ख्वाहिशे ख्वाहिश ये नहीं की लम्बी उम्र पाऊं, बस जितनी पाऊं तेरे साथ पाऊं । ख्वाहिश ये नहीं की अमीर हो जाऊँ बस इतना चाहूँ की जिंदगी सही गुज़ार पाऊं । ख्वाहिश ये नहीं की बंगला पाऊं बस एक घरोंदा प्रकर्ति के सनिनधय मे

तू जग जननी तू ही सबकी माता.....!!

0
19 -Mar-2018 pravin tiwari Prayer Poem 0 Comments  298 Views
तू जग जननी तू ही सबकी माता.....!!

तू जग जननी तू ही सबकी माता, तेरी महिमा की मां गाऊं मैं गाथा.......! दुर्गा भी तू है, मां तू ही महाकाली, तेरे चरणों में है ये दुनिया मां सारी........! जब कोई संकट आया इस जहां में, हर विपदा से मां तुने ही बचाया........! तीनों लोक में हो

हे प्रभु ..... प्रार्थना

0
03 -Mar-2018 pravin tiwari Prayer Poem 0 Comments  372 Views
हे प्रभु ..... प्रार्थना

हे प्रभु ..... हर रोज सुबह मैं बस, तेरा नाम ही रटना चाहूं..... नींद आए तो तेरे नाम से, और....…. तेरे नाम से ही जगना चाहूं..... ना चाहुं मैं धन दौलत, मैं तो बस मन का सुकून ही चाहूं..... तू जिस रस्ते पर चलाए, मैं उस रस्ते ही चलना चाहूं.....

नया साल / Naya Saal

0
26 -Feb-2018 rebel Prayer Poem 0 Comments  137 Views
नया साल / Naya Saal

नए साल कुछ ऐसे तुम आना मेरे चौबारे पर, घना उत्साह,घनी उमंगें ,लाना मेरे द्वारे पर. बडी देर से नजर टिकाऐ,आस लगाए बैठी हूं, मन प्राणों को सिंचित करदे ,मेघों की टोह में बैठी हूं. कालिमा के हर घेरे की कांट छांट कर जाना तुम

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017