Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Teacher ban gya main

0
23 -Oct-2017 RANJEET Radhe Mishra Profession Poems 0 Comments  496 Views
Teacher ban gya main

वो सुबह का जागना बच्चों की तरह तैयार होकर स्कूल जाना समय पर नहा कर नाश्ता करना कैसे ये सब सीख गया हूँ मैं लगता है टीचर बन गया हूँ मैं वो क्लास की घंटी बजना वो छोटे बच्चो पर डपटना शरारती बच्चो को पीटना कितना बदल गया

शब्द कुम्हार...।।

0
शब्द कुम्हार...।।

शब्द कुम्हार...।। "शब्द कुम्हार" हाँ मैं एक "शब्द कुम्हार" ही तो हूँ गढ़ता हूँ नित्य मैं शब्द नये रोज रुप इन्हे नया मैं देता हूँ ढालता हूँ सोच के साचें में इनको ख्यालों का जामा पहनाता हूँ चढ़ाता हूँ भावनाओं की चक्की पर

कलम

0
01 -Sep-2017 Anju Goyal Profession Poems 0 Comments  828 Views
कलम

 कलम भी क्या तन्हाई  की गजब  साथी  होती है अनकहे उलझे सवालों को शब्दों में पिरो देती  है । लफ्जो के उठे तूफा को साहिल तक पहुँचा देती है बिना लव खोले दिल के दर्द को जाहिर कर देती है लाख कोशिश करो छिपाने की दर्दो को जम

किसान भाई

0
26 -Apr-2017 Anju Goyal Profession Poems 1 Comments  7,941 Views
किसान भाई

  प्यारे  किसान  भाइयों , तुम  हो हमारे  अन्नदाता  रात दिन  मेहनत करके, बन गए सबके जीवनदाता ।    सूरज की कड़ी धूप में,  खेत मे करते  हो  काम  अन्न  पैदा  करके भी, नहीं  मिलता कोई  इनाम  ।   ना  परवाह  मौसम की, करते  बिना  थक

Seema Par jo Sainik Hain

0
02 -Feb-2017 अभय काने Profession Poems 0 Comments  3,824 Views
Seema Par jo Sainik Hain

Seema par jo sainik hain, peeda wo sahate dainik hain, kahin jamte thand mein to, kahin rahate baahar ki gand mein, nahin hain kisi se darte yah, desh ke liye marte hain yah, anek kasht sahkar humein bachaate hain, har waar ko humare liye sah jaate hain, na haare hain na kabhi haarenge, har shatru ko yah maarenge, inaki wajah se hum chain se so pate hain, apane bade-bade sapno mein kho jate hain.

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017