Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

रातो का अफसाना

0
15 -May-2019 Maya Ramnath Mallah Sad Poems 1 Comments  230 Views
Maya Ramnath Mallah

बेसब्र मेरी आँखो को सब्र नही आता हैं
खिड़की से मेरे जो तु नजर नही आता हैं

सोचा ख्वाब में देख लुंगी तुझे
कमख्त तेरी यादो में नींद कहाँ आता हैं

सारी रात करवटे बदल के कट जाती हैं
तुम हो के तुम्हे एक हिचकी तक नही आती हैं

युँ तो हजार बाते हो जाती हैं तुम से
बस तेरी मुस्कुराती तस्वीर कुछ कह नही पाती हम से

दिल की अधूरी ख्वाहिश हो या रात का अफसाना
तुम नही भूलती मुझे तिल-तिल जलाना



 Please Login to rate it.



You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

1 More responses

  • poemocean logo
    Mainuddin (Guest)
    Commented on 17-May-2019

    Besh Kimti word starting ke 2 line me hai Jo ki sabse niche rehna chahiye tha....ek achha writer hone k liye use suspense wali movie dekhni chahiye...
    Last me Kya ho yeh janne k liye darsak puri film ko dhyan se padhte hai...waise hi kisi sayari me Jo sabse majboot line lage use last me rakhe Maya g .....jaise ki
    बेसब्र मेरी आँखो को सब्र नही आता हैं
    खिड़की से मेरे जो तु नजर नही आता हैं.

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017