Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Naya Raksha bandhan

0
26 -Aug-2018 Rashmi Gupta Rakshabandhan Poem 0 Comments  535 Views
Naya Raksha bandhan

रक्षा का बंधन है बांधा, बहन ने भाई के हाथो पे । आजा भाई तू भी इक धागा, आज बांध दे मेरे हाथो पे । जैसे तू रक्षा को मेरी, सदा ही तत्पर रहता है । मेरी भी ऑखो मे सपना, तेरे शुभ का ही सजता है । जब भी तू मुझे पुकारे, साथ सदा ही पा

राखी का त्यौहार

0
26 -Aug-2018 nil Rakshabandhan Poem 0 Comments  832 Views
राखी का त्यौहार

राखी का त्यौहार आया राखी का त्यौहार, लाया खुशियों का उपहार नहीं ख़ुशी का पारावार, एक नहीं तुम गिनों हज़ार राखी बने कलाई हार, भाई दे अनुपम उपहार बहिना भाई बिना उदास, भाई बहिना बिना निराश बहिना मांगे भाई प्यार, बंधन के

रक्षाबंधन आया

0
25 -Aug-2018 Jyoti Rakshabandhan Poem 0 Comments  727 Views
रक्षाबंधन आया

आया सावन का महीना वर्षा की फुहार संग लाया भाई बहन के प्यार का त्योहार रक्षाबंधन आया संग खुशियों को लाया राखी रोली और मिठाई से सज गई थाली बहना की करती प्रार्थना वह ईश्वर से आज दे देना तुम सारी खुशियाँ इस जहां की मे

नया जमाना है

0
25 -Aug-2018 Jyoti Rakshabandhan Poem 0 Comments  1,499 Views
नया जमाना है

कभी-कभी सोचती हूँ मैं कितना बदल गए हैं हम नया साल, दिवाली ,होली रक्षाबंधन सब ई -मेल पर बहन ने राखी भेजी ऑनलाइन भाई ने उपहार भेजा ऑनलाइन अब कहाँ समय है रिश्तों के लिये कहाँ बांधती राखी अब बहना भाई की कलाई पर रोली ,टीक

राखी / Rakhi

0
23 -Aug-2018 Suresh Chandra Sarwahara Rakshabandhan Poem 0 Comments  694 Views
राखी / Rakhi

सावन में पड़ रही फुहारें मन्द मन्द धरती मुस्काई, पूनम का जब चांद खिला तो प्रेम - सूत्र ले राखी आई। यह त्यौहार बड़ा ही पावन ग्रन्थों ने है महिमा गाई, भाई और बहन का नाता रखता है निर्मल गहराई। घर घर में है लहर खुशी की ब

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017