Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Rishtey

8
26 -Mar-2014 Nainsi Jain Relationship Poems 1 Comments  1,933 Views
Nainsi Jain

Jeevan ki shuruat se hum, jis dor se bandh jaate hain.
Aur apni aakhiri saans tak shayad, jiska mol nahi samajh paate hain.
Iss pyaare se bandhan ko, kaha jaata hai rishtey.
Jiski majboot buniyad se hi hum, zindagi ko sukh poorvak bita paate hain.
Pyar aur vishwas ki saajhedari, aur thodi si muskurahat ki shilpkaari.
Chhote chhote anubhawon se hum, rishton ki adakari ko jaan paate hain.
Iss sansar roopi sagar ne rishton ko, baanta hai kai lehron mein.
Kucch lehrein hamein sikhaati hain apnapan, toh kuchh lehron se hum jeevan ki kadwahat ko maap paate hain.
Uss parivar roopi bagiya main, hain rishtey roopi kayi phool.
Jis phool ki karte hain hum jitni raksha,utna hi uss bagiya ko khushaal dekh paate hain.
Iss jindagi roopi aaine main hum,utni hi chamak la paate hain.
Jitna hum jindagi ke rishton ko,sacchai se nibhate jaate hain.



Rishtey

जीवन की शुरुआत से हम , जिस डोर से बंध जाते हैं .
और अपनी आखिरी साँस तक शायद , जिसका मोल नहीं समझ पाते हैं .
इस प्यारे से बंधन को , कहा जाता है रिश्ते .
जिसकी मजबूत बुनियाद से ही हम , ज़िन्दगी को सुख पूर्वक बिता पाते हैं .
प्यार और विश्वास की साझेदारी , और थोड़ी सी मुस्कराहट की शिल्पकारी .
छोटे छोटे अनुभवों से हम , रिश्तों की अदाकारी को जान पाते हैं .
इस संसार रुपी सागर ने रिश्तों को , बाँटा है कई लहरों में .
कुछ लहरें हमें सिखाती हैं अपनापन , तो कुछ लहरों से हम जीवन की कड़वाहट को माप पाते हैं .
उस परिवार रुपी बगिया में, हैं रिश्ते रुपी कई फूल .
जिस फूल की करते हैं हम जितनी रक्षा ,उतना ही उस बगिया को खुशाल देख पाते हैं.
इस जिंदगी रुपी आईने में हम ,उतनी ही चमक ला पाते हैं .
जितना हम जिंदगी के रिश्तों को ,सच्चाई से निभाते जाते हैं .


 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

1 More responses

  • poemocean logo
    Arpita jain (Guest)
    Commented on 28-March-2014

    Awesome poem.. heart touching.. :-).

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017