Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Jinhe naaz hai hind par.....

1
22 -Jan-2013 Ashutosh Sharma Republic Day Poems 2 Comments  4,225 Views
Ashutosh Sharma

Gunjaar uthe jal,thal,amber jab lahu badan se nikal pada,
Bharat ki laaj bachane ko jo veer seema pe tha adig khada,
Ban gaya dhaal tha thame wo gaurav is desh ka kshamta se,
Manavta ki paribhasha jab sharmshar huyi nirmamta se,
Tha prem vatan se itna ki jaan dene ko taiyaar hua par,
Kat gaya sheesh,na mila sheesh,balidaan na uska amar hua,
Jinhe naaz hai hind par wo kaha the,
Jinhe naaz hai hind par wo kaha hai.

Sirmaur raha bharat har dum apne sabhyata aur sanskriti ka,
Pratyaksh ban gaya chupchap us raat jo dushit samajik vikriti ka,
Purkho ke siche aangan me phir paak sabhyata bhagna huyi,
Wahshi haiwano ke aage jab bharat ki naari nagna huyi,
Paawan is dharti ke aanchal me phir manavta sharmshar huyi,
Na bachi laaj,na bachi jaan koshish saari bekaar huyi,
Abhimaan jinhe hai aaj bhi khud ko saccha bharatwasi kehkar,
Hai yahi sawal mera unse is nirmam krurta ko sahkar,
jinhe naaz hai hind par wo kaha the,
Jinhe naaz hai hind par wo kaha hai,



जिन्हें नाज़ है हिन्द पर.....

गूंज उठे जल, थल, अम्बर जब लहू बदन से निकल पड़ा,
भारत की लाज बचाने को जो वीर सीमा पे था अडिग खड़ा,

बन गया ढाल था थामे वो गौरव इस देश का क्षमता से,
मानवता की परिभाषा जब शर्मसार हुई निर्ममता से,
था प्रेम वतन से इतना की जान देने को तैयार हुआ पर,
कट गया शीश, न मिला शीश ,बलिदान न उसका अमर हुआ,
जिन्हें नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ थे,
जिन्हें नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ हैं.

सिरमौर रहा भारत हर दम अपने सभ्यता और संस्कृति का,
प्रत्यक्ष बन गया चुपचाप उस रात जो दूषित सामाजिक विकृति का,
पुरखों के सींचे आँगन में फिर पाक सभ्यता भग्न हुई,
वहशी हैवानों के आगे जब भारत की नारी नग्न हुई,
पावन इस धरती के आँचल में फिर मानवता शर्मसार हुई,
न बची लाज, न बची जान कोशिश सारी बेकार हुई,
अभिमान जिन्हें है आज भी खुद को सच्चा भारतवासी कहकर,
है यही सवाल मेरा उनसे इस निर्मम क्रूरता को सहकर,
जिन्हें नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ थे,
जिन्हें नाज़ है हिन्द पर वो कहाँ हैं.


 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

2 More responses

  • abhishek shukla
    Abhishek shukla (Registered Member)
    Commented on 23-January-2013

    ऐ खाक ऐ वतन तू खाक सही
    मुझको तू हकीकत लगता है,
    औरोँ के लिए तू राख सही
    मुझको तो तू जन्नत लगता है....very nyc..keep it up.

  • Gian chand sharma sharma
    Gian chand sharma sharma (Registered Member)
    Commented on 23-January-2013

    nice efoorts
    keep it up.

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017