Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

गज़ल "दर्द"

0
03 -Jun-2019 Rohit kumar Ambasta Sad Poems 0 Comments  151 Views
गज़ल

छिपाकर राज़ रक्खा है मगर कहने से डरते हैं मुहब्बत दर्द है ऐसा जिसे हम रोज सहते हैं हमें चाहत मिली उनकी मगर इतनी शिकायत है वो औरों से वफा करने में भी मशरूफ रहते हैं उन्ही से है जहाँ अपना उन्हीं से है खुशी अपनी वही आँ

हुनर आना चाहिए

0
19 -May-2019 अविरल Sad Poems 0 Comments  559 Views
हुनर आना चाहिए

ज़िन्दगी जीने का हुनर आना चाहिए, जो है दिल मे आंख में नजर आना चाहिए।। यूँ नही सजती है तन्हाई में भी महफिले, हर हाल में जीने का सबर आना चाहिए।। मंजिले कैसी भी हो, कहाँ मुश्किल होती है, कंकरीले रास्ते पर चलने का जिगर हो

सोचो क्या होता

1
19 -May-2019 अविरल Sad Poems 0 Comments  171 Views
सोचो क्या होता

कुछ तो सोचो क्या होता गर साथ तुम्हारा न पाते, यूँ टूट गयी थी सांसे कि फिर धड़कन से न जुड़ पाते।। सफ़र था लम्बा, जीवन लम्बा, लम्बे थे अरमान मेरे, जीवन में मुश्किल न आती तो कैसे तुझसे जुड़ पाते।। एहसास तेरा, विश्वास तेरा, उ

नदी के दो किनारे हम

1
19 -May-2019 अविरल Sad Poems 0 Comments  182 Views
नदी के दो किनारे हम

"नदी के दो किनारे हम" साथ चले थे साथ चलेंगे, नहीं सोचना कभी मिलेंगे, बस कुछ दूर किनारों से, एक दूजे को देखेंगे हम, नदी के दो किनारे हम।। जैसे धरती और आकाश, दूर क्षितिज के पास पास, तकते हैं एक दूजे को, पर न लाते जीवन में ग

कोई ढूँढो मुझे

0
19 -May-2019 अविरल Sad Poems 0 Comments  179 Views
कोई ढूँढो मुझे

कोई ढूंढो मुझे, मैं कहीं खो गया, आज कल खुद को मिलता नहीं।। वो मकां जिसमें मेरा बसेरा रहा, आज कल तो वहाँ मैं हूँ रहता नहीं।। क्या हुआ है मुझे कोई पुछो नहीं, दर्द मुझको है जो मैं वो कहता नहीं।। तुम हो नाराज़ क्यूँ मैं रु

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017