Wo kayamat ki raat hogi

1
17 -Oct-2017 Sumit Kumar Sad Poems 0 Comments  58 Views
Wo kayamat ki raat hogi

Wo kayamat ki raat hogi jis din aane wali uski baraat hogi, Saji hogi udhar mahfil aur masti ka daur hoga par idhar mere aankhon se aansuon ki barsaat hogi, Jaan se bhi badh kar chaha hai maine jise us din us se door jane ki baat hogi, Kaise sah paunga main uski judai ka gam ye soch kar mar gayi mere jism ki har jajbaat hogi, Udhar uthne waali hogi doli uski aur idhar mere janaje ki bhi shuruwaat hogi

मैं कौन हूँ....इंसान???

0
17 -Oct-2017 Shah Asad Nafis Sad Poems 0 Comments  47 Views
मैं कौन हूँ....इंसान???

इंसान के नाम पे मैं हैवान हूँ मैं हैरान हूँ हताश हूँ ज़िंदा लाश हूँ अल्फ़ाज़ ही नही क्या बताऊँ क्या सुनाऊँ मैं तो बस मतलबी हूँ मक्कार हूँ दुनिया के लिए एक बड़ा सा धिककार हूँ मैं एक इंसान हूँ मैं घबरा चूका हूँ मैं ट

Kyun ?

0
17 -Oct-2017 Sumit Kumar Sad Poems 0 Comments  33 Views
Kyun ?

JAB WO THI NAHI MERE HAATHON KI LAKKERON ME TO MUJHE US SE MILAYA KYUN MERE BINA HI JEENEE THE ZINDAGI USE TO MUJHE APNE ISHQ KA JAAM PILAYA KYUN , JAB BEECH RAAH ME HI THA CHHODNA TO KABHI PYAR SE MERE GAALON KO SAHLAYA KYUN, KAHA KARTI THI KABHI ANMOL HAIN AANSU TERE TO AAJ IS KADAR MUJHE RULAYA KYUN , IS TARAH MUJHE TADPA TADPA KE HI THA MAARNA TO KABHI MUJHE JEENA SIKHAYA KYUN ?

ये वक़्त

0
16 -Oct-2017 Thakur Gourav Singh Sad Poems 0 Comments  53 Views
ये वक़्त

माना मैंने की ये जो वक़्त है वो मेरे साथ नही है पर वादा है मेरा तुम सबसे देखना एक दिन मैं इसको पीछे छोड़ जाऊंगा आज जो मुझे मेरे हलात पे तनहा छोड़ गए तुम देखना एक दिन मैं वो समय बदल जाऊंगा याद रखना मेरी बातों को तुम अगर आ

अधूरी ख्वाहिश .....

0
13 -Oct-2017 Saroj Sad Poems 0 Comments  71 Views
अधूरी ख्वाहिश .....

तू मेरी अधूरी ख्वाहिश था अधूरा ही रह गया, न मिल सके हम तुम न ये प्यार मुकम्मल हुआ, दिल टूटा मेरा और अश्क भी गिरे, न जाने कितने ही रात रोकर मैंने गुजरे, हर घडी जो तेरी बातें किया करती थी , आज वो सारी यादें बन गई है, पन्ने

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017