Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

टूटे दिल की सदा

0
22 -Jul-2021 Musafir Sad Poems 0 Comments  119 Views
टूटे दिल की सदा

गज़ल शेख मोईन नईम "मुसाफीर" 7776878784 ज़िन्दगी की राहों में नहीं मिले कभी ख़ुशी से तेरे बाद जारी हैं कशमकश इस ज़िन्दगी से इंसानियत को मरे सदीया गुज़र गई ज़माने में अब डर लगता हैं सरे राह मिलते हुए आदमी से टूटे ख्वाब, हसरत, इंतज़

*'जीवन का सच'*

0
07 -Jul-2021 Dimpy Rat Sad Poems 0 Comments  184 Views
*'जीवन का सच'*

दिल में आज बेचैनी सी क्यों ! फिज़ाओ में ये मायूसी सी क्यों, आँखों में ये नमी सी क्यों... आज लगता हैं संसार विराना हैं, ना कोई अपना ना कोई सहारा हैं... दिल कचोट रहा हैं बार-बार, किसके लिए जियूँ ! झूठी हैं दुनिया, भ्रम में जा

मुझे इन्सान मत बनाना

0
30 -Jun-2021 राकेश कुमार राठौर Sad Poems 0 Comments  364 Views
मुझे इन्सान मत बनाना

मुझे इन्सान मत बनाना एक दिन सहसा मैं रुक सा गया नजर गया एक कीड़े की ओर मैनें कीड़े से पूछा, क्यों भाई क्या हाल – चाल है? वह कीड़ा भी ठहर सा गया वह बोला यह भी क्या जिंदगी है न ठीक से जी रहें हैं, न ही मर रहे हैं मैनें उससे क

खोया हुआ सा कुछ

0
24 -May-2021 Musafir Sad Poems 0 Comments  452 Views
खोया हुआ सा कुछ

खोया हुआ सा कुछ मोईन मुसाफीर 7776878784 शाम ढले तन्हाई में तेरी याद आए तो खुद को बहलाते हैं कभी खुद से बतीयाते हैं... कभी तेरी याद को समझाते हैं किसी को टुट कर चाहने वाले..... क्या खूब सज़ा पाते हैं कभी दिन का चैन खोते हैं... कभी

ख्वाबों का तबाह आशियाँ

0
24 -May-2021 Musafir Sad Poems 0 Comments  400 Views
ख्वाबों का तबाह आशियाँ

ख्वाबों का तबाह आशियाँ मोईन मुसाफीर 7776878784 तेरी जुदाई का दर्द...... मेरे जीने की दुआ कर रहा हैं तेरा गम रहे सलामत जो आज तक वफा कर रहा हैं मुद्दतें गुज़री किसी हरजाई को चाहत की कसमें भूले कोई टूट कर भी... मोहब्बत का हक अदा क

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017