Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

SilSile...

0
09 -Sep-2014 Ravi Kant Toonwal Sad Poems 0 Comments  1,296 Views
Ravi Kant Toonwal

Me sochta hu kabhi akele me...
Duniya bhar k is jhamele me...
Kya koi bhi har tarah khush h...
Zindgi k gumo k mele me...

Ye jo mujhpe dukh ka saya h...
Ye badal kis kis ne paya h...
Kya is barish me sb bhige h...
Or sbne apna suku ganwaya h...

Dil aksar mujhe swal kiya krta h...
Q Har shaqks ye harjana bharta h...
Kis galti ki saja mujhe mili h...
Ya har koi ishq me uhi marta h...

Meri mohhabt ka sila chahe na mile...
Per ye jindagi meri jara to khile...
Tu rah chahe irado pe apne kayam...
Per dur to ho ye ashko k silsile...

fv♡



सिलसिले...

मैं सोचता हूँ कभी अकेले में...
दुनिया भर के इस झमेले में..
क्या कोई भी हर तरह खुश है...
ज़िंदगी के ग़मों के मेले में...

ये जो मुझपे दुःख का साया है...
ये बादल किस किस ने पाया है...
क्या इस बारिश में सब भीगे हैं...
और सबने अपना सुकूं गंवाया है ...

दिल अक्सर मुझे सवाल किया करता है...
क्यों हर शख्स ये हर्जाना भरता है...
किस गलती की सजा मुझे मिली है...
या हर कोई इश्क़ में यूँ ही मरता है...

मेरी मोहब्बत का सिला चाहे न मिले...
पर ये जिंदगी मेरी जरा तो खिले...
तू रह चाहे इरादों पे अपने कायम...
पर दूर तो हो ये अश्कों के सिलसिले...


Dedicated to
K

 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017