*****हम किसान*****

0
30 -Jun-2017 Jugal Milan Save Trees Poems 0 Comments  192 Views
*****हम किसान*****

बरस बरस बरसो रे मेघा तन मन भींगा-भीगा ये आँगन भींगा है सारा ये उपवन हरियाली छाई है देखो खुशहाली आई है देखो खुलके उपजेंगे अन्न हमारे खुशहाल होंगे जीवन वो सारे बस एक विनती रख लेना प्यारे पेड़ लगाना तुम मिलकर सारे ब

धरती की पुकार

0
03 -May-2017 Anju Goyal Save Trees Poems 0 Comments  477 Views
धरती की पुकार

तपती धरती लगा रही है मानव जाति से गुहार  पेड़ लगाकर मुझे बचाओ  अब तो सुन लो मेरी पुकार । न देखो मेरे जख्मो को न देखो मेरे दर्दो को  पर अपना हित तो देखो पर अपना भला तो देखो। बेदर्दी से काटकर पेड़ों को क्या अपनी प्यास

Shubhchintak Hain Vriksh Humaare

0
18 -Dec-2016 DINESH CHANDRA SHARMA Save Trees Poems 0 Comments  472 Views
Shubhchintak Hain Vriksh Humaare

Nahin maangte hain kuchh humse, humko sab upalabdh karaate. shubhchintak hain vriksh humaare, durlabh saamagri upjaate .. Hain vishist gun in vrikshon mein, anyatr nahin mil sakte hain. chhipaa-chhipa kar rakhen urja, praapt surya se karte hain. tatvon ko lekar prakriti se, hain vividh padaarth banaate. shubhchintak hain vriksh humaare ......... Gehoon chawal daalen sabzi, kitne saare fal rasdaar. bhojan ki thaali men sajte, dekho vividh vyanjan yaar . tatv paushtik humein chaahiye, sahaj roop men hain mil jaate . shubhchintak hain vriksh humaa

Aao Hum Ped Lagaayein

0
07 -Jun-2016 Ram Vallabh Acharya Save Trees Poems 0 Comments  1,481 Views
Aao Hum Ped Lagaayein

आओ हम पेड़ लगायें, आओ हम पेड़ लगायें । धरती पर हरियाली लाकर खुशहाली लौटायें ॥ आओ हम पेड़ लगायें ॥ क्षरण रोकते माटी का, उपजाऊ धरा बनाते । मेघों को आकर्षित करके खेतों को सरसाते । पेड़ हमारे सच्चे साथी, इनका साथ निभाय

Bhavishya

0
26 -May-2016 Hemant Rana Save Trees Poems 0 Comments  1,173 Views
Bhavishya

एक जगह थे थोड़े से पेड़ जो रखते थे हरदम छाया जब सूरज अपनी गर्मी बढाता हर कोई उनकी छाया में आता पेड़ो पर रहते पक्षी बहुत सारे बने थे उनके घोसले प्यारे प्यारे उन सब का था अलग संसार पक्षियों को था पेड़ो से प्यार पंक्षी कर

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017