Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

पूंछ रहे हैों सोन चिरैया

0
08 -Mar-2020 nil Social Events Poems 0 Comments  613 Views
पूंछ रहे हैों सोन चिरैया

महिला सशक्तीकरण और महिला दिवस के सन्दर्भ में डॉ. आनंद की रचना में सोनचिरैया को नारी का प्रतीक मानकर यह बताने /संदेश देने का प्रयास किया गया है की कोरोना के लक्षण क्या और उनसे बचकर कैसे खुशियाँ (होली ) मनाकरखुशिया

१४ फरवरी पुलवामा शहिद दिवस...!!

1
13 -Feb-2020 pravin tiwari Social Events Poems 0 Comments  420 Views
१४ फरवरी पुलवामा शहिद दिवस...!!

दिन वही, तारिख वही, और महिना भी वही है.....! पुलवामा के शहिदों की, १४ फरवरी भी वही है......! कैसे मानाए इस दिन को हम मोहब्बत के तौर पर, हर हिन्दुस्तानी के लिए तो, मनहूस दिन भी यही है......! उजड़ा था सुहाग किसी का, बुझ गया था घर का च

Selfishness

0
23 -Jul-2019 nandita sinha Social Events Poems 0 Comments  460 Views
Selfishness

How rude and selfish can they be; To not respect the gifts given to them by thee; They always keep demanding more; Don't they have satisfaction in their hearts deep core; For themselves they do everything do everything; Never thinking of other beings; They don't even dare to share; Only for their own life they care; They have no generosity or love in their deadly hand; How can they have love for their motherland; By killing at least one on every date; Can they ever have a friendly mate;

नारी - हिम्मत कर हुंकार तू भर ले

0
10 -Mar-2019 RAKESH KUMAR SRIVASTAV "RAHI" Social Events Poems 0 Comments  909 Views
नारी - हिम्मत कर हुंकार तू भर ले

नारी के हालात नहीं बदले, हालात अभी, जैसे थे पहले, द्रौपदी अहिल्या या हो सीता, इन सब की चीत्कार तू सुन ले। राम-कृष्ण अब ना आने वाले, अपनी रक्षा अब खुद तू कर ले, सतयुग, त्रेता, द्वापर युग बीता, कलयुग में अपना रूप बदल ले। ल

बातें कविता की /baate kavita ki

0
21 -Mar-2018 shalu L. Social Events Poems 0 Comments  1,612 Views
बातें कविता की /baate kavita ki

बातें कविता की……….. बातें जो दिल में हो कागज पर वो जब आ जाये हाले दिल को शब्दों में, कलम बयां वो कर जाये , कल्पनाओं से बने हकीकत, बात जब कविताओं की आये मिल जाये लफ्जो को जुबां ,गुनगुनाती जब होटों पर आये पल भर में याद बन

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017