Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

कोराना आज और कल

0
07 -Jun-2021 nil Social Issues Poems 0 Comments  81 Views
कोराना आज और कल

सात: कोराना आज और कल बुरे दौर में उजले सपनें पालें काला मुंह करके भागे कोराना एक लहर के बाद दूसरी आई कहीं- कहीं पर तिसरी - चौथी आई१ भारत में दुसरी तो सितम ढा रही आंधी तूफ़ान बवंडर बन आई महाप्रलय तांडव रचता कोराना तंत

सेल्फी वाले दिन

0
18 -May-2021 सिद्धार्थ पांडेय Social Issues Poems 0 Comments  20 Views
सेल्फी वाले दिन

लगन आ गयी पर चले गए हैं ,कुल्फी वाले दिन। तेल पान पश्चात स्टाइल वाले ,जुल्फी वाले दिन। कोरोना ने बदल दिया जीवन का हर मन्जर, पर नही बदले आटें देकर सेल्फी वाले दिन। दू किलो आलू दिया और नमक टाटा दे गए। हम हे पार्टी के न

इंसान कैद हो गया है

0
04 -May-2021 Harpreet Ambalvee Social Issues Poems 0 Comments  40 Views
इंसान कैद हो गया है

आज फिर इंसान कैद हो गया है निकले थे पिछले साल जिन हालातो से, फिर से जिन्दगी का मौत से सामना हो गया है, आज फिर इंसान कैद हो गया है, पहले जिसकी थी गलती आज भी उसकी है, जिसकी सोच मे पहले भी कुर्सी थी आज भी कुर्सी है, जान बचा

करोना की या नेता की चाल।

0
19 -Apr-2021 Harpreet Ambalvee Social Issues Poems 0 Comments  193 Views
करोना की या नेता की चाल।

करोना तेरी चाल मतवाली हैं, मगर जिधर भी तु जाता, पड़ती तुझे सिर्फ गाली है, भाग जाता हैं वहा से, बजाते प्रधान सेवक और भक्त जहां थाली हैं, करोना तेरी चाल मतवाली हैं , मैं जानता हूं कि तुझे बस बदनाम किया है, प्रधान सेवक ने

राजा देश पर बोझ है

0
10 -Apr-2021 Harpreet Ambalvee Social Issues Poems 0 Comments  340 Views
राजा देश पर बोझ है

ऐसा राजा देश पर बोझ है देश का सत्य नाश कर दिया , फिर भी निर्लज्ज सा मौन है, ऐसा राजा देश पर बोझ है , बनाया था राजा इसको, देश की दशा बचाने को, पर ये सोच बैठा इसको बनाया जनता ने, विदेशों में सैर सपाटे कराने को, जहां भी गया य

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017