Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

आज की सरकार

0
14 -Jan-2020 Abbas Bohari Social Issues Poems 0 Comments  138 Views
आज की सरकार

सपन सुहाने दिखाती सरकार निरंतर करती विकासका प्रचार गुजर बसर कर रहे बिना तक्रार फ़िर कौन बढा रहा दिलोंमें दरार लगे ताकमें लगाने आग कुछ गद्दार धर्मके नामपे भोकने पीठमे कटार जान गया इनके इरादे गरीब अमीर जाग गया अब

अधूरा न्याय

0
07 -Jan-2020 Social Issues Poems 0 Comments  7 Views
अधूरा न्याय

भुलाये नही भूलती वो भयानक रात आज हर ज़ुबां करे निर्भय़ा की बात सूरज़ ढले निकले थे दोनों शाम बिताने कोई क्यो करे ऐतराज़, दोनों थे सय़ाने दोनों ख़ुश थे अपनीही दुनिया में ख़ोये गश्ती पहरेदार शायद बेख़बर थे सोये मात पिता ने

Acid attacks

0
12 -Dec-2019 Abbas Bohari Social Issues Poems 1 Comments  216 Views
Acid attacks

तेज़ाब मालिक बख्शता ऐसा हुस्न ओ शबाब हर ख़वातीन अपने आपमें लाजवाब ढूंढे सब मिल जाए सपनों का मेहबूब पर क़ुदरत दिखाती अपने खेल खूब औरत की ना का हो चाहे जोभी सबब कई नामर्द भूल जाते बुनियादी अदब किसीको दौलत का नशा उपरसे

आज के जानवर...

1
01 -Dec-2019 Piyush Raj Social Issues Poems 0 Comments  226 Views
आज के जानवर...

#Justice_For_PriyankaRaddy पंख कुतर दिए उनके परिंदों के सामने वो गिड़गिड़ाती रह गयी दरिंदों के सामने करती रही इलाज यहां बीमार जानवरों का जल गई वो एक दिन जानवरों के सामने सहम गया रूह मेरा देख ये हैवानियत सुरक्षा का सवाल है अब लड़किय

Darindagi

1
30 -Nov-2019 Mamta Mudgal Social Issues Poems 0 Comments  236 Views
Darindagi

Aaj fir sharamsar hui Yeah insaniyat Kassor Ni tha jiska Use tadpana pda Lootva apni aabroo Jinda jlana pda Madad ke liye bade jo hath Unhi ne Tod Dia Vo anjaan thi na samaj jo Samaj na Pai Insaniyat Ni ab duniya me Vo samaj na Pai Janvro ka ilaj krti thi Shyd janti thi Insaan se ache to janvar hai Phechanti thi Hath unke kya kape Ni honge Rooh to kardi thi uski khrab Sharir Ko b Jinda jala Dia Kya unke ghar me koi bhen beti ya ma Ni thi Soch unki soch kapi Ni thi.. Jism to kra uska khrab darindo ne Ghar b kharb kar Dala Fir ek Baar yeh sach ka

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017