Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

5 साल का ठप्पा

0
27 -Mar-2021 N.K.M.[ LYRICIST ] Social Issues Poems 0 Comments  340 Views
5 साल का ठप्पा

SONG :- 5 साल का ठप्पा LYRICIST :- N.K.M. [ +916377844869 ] LYRICS :- ::::---- INTRO PART :::::---- देश की शान है युवा, पेट की तान है तुआ, करते काम की रोज है दुआ, **************************** ::::---- CHORUS PART :::::---- बेरोजगारी का आगे है कुआ, करने को पास में काम नहीं है ... सीट पे 5 साल का ठप्पा, समझो तुम अप

नजर न लग जाये राजनीतिक चिराग को

0
21 -Mar-2021 सिद्धार्थ पांडेय Social Issues Poems 0 Comments  142 Views
नजर न लग जाये राजनीतिक चिराग को

जो सपने छले थे तेज दिल और दिमाग को। हो क्या गया था सोच स्थल के विभाग को। उभर आयी है पुरधानी की जो तमन्ना , कहीं नजर न लग जाये राजनीतिक चिराग को।। अभी तक सभी जन वीनर थे बनते। भ्रष्ट भी भ्रष्टाचार के क्लीनर थे बनते। हा

किसान- क्रेडिट

0
17 -Mar-2021 N.K.M.[ LYRICIST ] Social Issues Poems 0 Comments  215 Views
किसान- क्रेडिट

SONG :- किसान- क्रेडिट LYRICIST :- N.K.M. [ +916377844869 ] LYRICS :- ::::::------ INTRO PART ----------- महलों में रहने के शौकीन, बात कभी मुद्दे वाली किया करो ... एक वर्ग है खेती वाला, उस पर भी तुम चर्चा किया करो... #################### ::::::------ CHORUS PART ----------- देश बड़ा है आबादी वाला, किसान को उसक

पैसे बहुत मुश्किल से

0
20 -Feb-2021 N.K.M.[ LYRICIST ] Social Issues Poems 0 Comments  662 Views
पैसे बहुत मुश्किल से

SONG :- पैसे बहुत मुश्किल से LYRICIST :- N.K.M. [ +916377844869 ] LYRICS :- ::::::------- INTRO PART :::::::----- सुबह उठे तो दिन तुझको हसीन लगे क्योंकि फोन में तुझको मिस कॉल दिखे उसके बाद हाथों की तेरे दौड़ लगे डायलिंग में तेरी डार्लिंग का कॉल लगे क्या कर रही हो जानू य

आरक्षण.

0
09 -Feb-2021 bharat Social Issues Poems 0 Comments  471 Views
आरक्षण.

आरक्षण माँ बच्चों में भेद करेगी समुचित पोषण कैसे होगा… सबसे सम व्यवहार ना होगा इकरस तोषण कैसे होगा… राष्ट्र सभी को है एक जैसा कौम भेद स्वीकार नहीं है… प्रतिभा कुंठित करने वाला आरक्षण स्वीकार नहीं है… आजादी के ल

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017