Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

सुनो न अभी भी सिर्फ तुमसे ही प्यार करते है

0
13 -Feb-2019 शिवा Valentine Poem 1 Comments  707 Views
सुनो न अभी भी सिर्फ तुमसे ही प्यार करते है

हर रोज उस चांद में बस तुम्हारा ही दीदार करते है,
सुनो न आज भी सिर्फ तुमसे ही प्यार करते है,

अब तो तन्हा बैठ आसमां को निहारा करते है सारी रात,
अब तो आकर चाँद सितारें भी करने लगे है मुझसे बात,

रात भर जाग-जाग कर अभी भी सिर्फ तुम्हारा ही इन्तजार करते हैं,
सुनो न आज भी सिर्फ तुमसे ही प्यार करते है,

साथ बिताये हुये हर लम्हों को मैनें अभी भी सजोया हैं,
पता हैं मेरी ही गलती से मैनें तुम्हें खोया हैं,

कमी खलती है तुम्हारी बहुत आज भी दिल से तुम्हारी दरकार करते है,
सुनो न आज भी सिर्फ तुमसे ही प्यार करते है,

बेकरारी का आलम अब भी मुझे बेकरार करता है,
बेचैन दिल आज भी तुम्हारा ऐतबार करता है,

अभी साँसो में जिंदा हो तुम अब ये दिल-ए-इजहार करते है,
सुनो न आज भी सिर्फ तुमसे ही प्यार करते है,

छोड़ो न बहुत हुई गुस्सा अब मान भी जाओं,
यूँ परेशान मत करों पास आओं अब न तड़पाओं,

चलों अब फिर इस वेलेंटाइन डे से प्यार-ए-सफर की नई शुरुआत करते हैं,
सुनो न आज भी सिर्फ तुमसे ही प्यार करते है,


-©शिवांकित तिवारी "शिवा"
युवा कवि एवं लेखक
सतना (म.प्र.)
सम्पर्क -9340411563

सुनो न अभी भी सिर्फ तुमसे ही प्यार करते है


Dedicated to
SomeOne Special

Dedication Summary
Secreted

 Please Login to rate it.



You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

1 More responses

  • poemocean logo
    Kavi anand (Guest)
    Commented on 13-February-2019

    ekdam bakwas ha . aur mhanat kro.

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017