Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Sir Aap Mujhe Yad Aate Hain

1
02 -Sep-2015 LALJEE THAKUR(Haffman) Teacher Day Poem 1 Comments  2,557 Views
LALJEE THAKUR(Haffman)

सर आप मुझे याद आते है

सर आप मुझे याद आते है।
सच! आप मुझे याद आते है।
कभी आँखों में आँसू बनकर ,
कभी चेहरे पर मुस्कुराहट बनकर,
सच! आप मुझे याद आते है।

सर मैं आपको देख सकता हूँ,
आपका ऐहसास कर सकता हूँ,
मैं आपको कुछ कह सकता हूँ,
आपका कुछ सुन सकता हूँ,
आपको महसूस कर सकता हूँ,
सच! आपको याद कर करता हूँ।

सर मैं आज भी गलतियां करता हूँ,
मैं आज भी किताब खुला छोड़ देता हूँ,
मैं आज भी पढ़ने वक्त ऊंघता हूँ,
मैं आज भी पाठ याद करने में हिचकता हूँ,
सच ! मैं आज भी आपको याद करता हूँ।

डांटने के लिए ही सही ,एक बार तो आइए,
सही में आप आ सकते है क्या?
अब बच्चा भी नहीं हूँ कि समझ लूँ आप आ जायेंगे,
बड़े होने का दुःख है मुझे कि आप सिर्फ याद आते है।

लालजी ठाकुर दरभंगा बिहार

Sir Aap Mujhe Yad Aate Hain


Dedicated to
सभी शिक्षकों को

Dedication Summary
हमे अपने गुरु को कभी नहीं भूलना चाहिए चाहे वह कितना भी शकस्त क्यों न हो वो सिर्फ मेरे लिए ही कुछ करते है।

आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल और बहुमूलय है ।आपको ये पोस्ट पसंद आई तो भी ना आई तो भी,अपनी कीमती राय कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.आपके मशवरों से मुझे बेहतर से बेहतर लिखने का हौंसला मिलता है.

 Please Login to rate it.



You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

1 More responses

  • poemocean logo
    Guddu g (Guest)
    Commented on 03-September-2015

    wah kya yaad kiya hai aapne sir ko....wastav me main kewal yahi kar sakta hun. sirf yaad......

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017