Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

MOBILE

0
15 -Jan-2013 DHOLU RAM SAINI Technology Poems 1 Comments  3,920 Views
DHOLU RAM SAINI

Hum man gaye jamane tujko,
Tune qya kar dikhaya hai,
chhota hi ha magar,
bade kam ka mobile banaya.

Pahle hum chidhi likhte thai,
Ab khtam huwa ye silsila.
Pahle hum milne jate thai,
Ab ye bhi janjht nahi raha.

Pahle hum soye rahte der sawer tak,
koi jaga de esi majhal nahi.
Ab jag jate hain mobile bajne se,
Qya ye koi kamal nahin?

Miss call mobile par aate hi
hum esi halchal karte hain,
jaise kai kante
pair tale chubh jatain hain.

Iski ghanti main ha jadu
sub kuchh bhula deti hai,
chahe baide hoin kisi sabha main
ye jhht se uda deti hai.

sawdhan ye badmash hai
badmashi kar sakta hai,
kisi bhi samya taiyar raho,
yahn tumko bhga sakta hai.

yahn english dawa hi samjho
jiske phayde tho nuksan bhi hain,
yah baat malum hai sabko,
phir bhi iske gulam hi hain.

bachon se lekar budhon tak
isne kisi ko nahi chhoda hai,
tep, radio, tv, sinema,
sabko isne peeta hai.

sanchar - kranti laya hai yah
adhunikta kee mishal hai,
har-pal iis par batain hoti,
isse juda sansar hai.

bhejo chahe sandesh kahin par
chahe karo e-mail tum,
yah deta harek suvidha,
iss par khelo game tum.

audio vidio ki baat qya
ye tho tavir bhi bana deta hai,
time, alarm, reminder
extra main composer, calculater bhi deta hai.



मोबाइल

हम मान गये जमाने तुझको,
तुने क्या कर दिखाया है,
छोटा ही है मगर,
बड़े काम का मोबाइल बनाया है.

पहले हम चिट्ठी लिखते थे,
अब ख़त्म हुआ ये सिलसिला.
पहले हम मिलने जाते थे,
अब ये भी झंझट नही रहा.

पहले हम सोये रहते देर सवेर तक,
कोई जगा दे ऐसी मजाल नही.
अब जाग जाते हैं मोबाइल बजने से,
क्या ये कोई कमाल नहीं?

मिस कॉल मोबाइल पर आते ही
हम ऐसी हलचल करते हैं,
जैसे कई काँटे
पैर तले चुभ जाते हैं.

इसकी घंटी में है जादू
सब कुछ भूला देती है,
चाहे बैठे हों किसी सभा में
ये झट से उठा देती है.

सावधान ये बदमाश है
बदमाशी कर सकता है,
किसी भी समया तैयार रहो,
यह तुमको भगा सकता है.

यह इंग्लिश दवा ही समझो
जिसके फायदे तो नुकसान भी हैं,
यह बात मालूम है सबको,
फिर भी इसके गुलाम ही हैं.

बच्चों से लेकर बूढ़ों तक
इसने किसी को नही छोड़ा है,
टेप, रेडियो, टीवी, सिनेमा,
सबको इसने पीटा है.

संचार - क्रांति लाया है यह
आधुनिकता की मिशाल है,
हर-पल इस पर बातें होती,
इससे जुड़ा संसार है.

भेजो चाहे संदेश कहीं पर
चाहे करो ई-मेल तुम,
यह देता हरेक सुविधा,
इस पर खेलो गेम तुम.

ऑडियो विडियो की बात क्या
ये तो तस्वीर भी बना देता है,
टाइम, अलार्म, रिमाइंडर
एक्सट्रा में कंपोजर, कैलकुलेटर भी देता है.


 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

1 More responses

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017