Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

हमारा शान्ति राग

0
20 -Sep-2016 Girendra Singh Bhadauria Pran Terrorism poems 0 Comments  1,454 Views
हमारा शान्ति राग

जितना खतरा नही देश को आतंकी हत्यारों से । उससे ज्यादा भय लगता है चुनी हुई सरकारों से ।। वे मौनी थे ये बड़बोले दोनो वोट भिखारी हैं । लगता है ये सभी सैनिकों के ही घाघ शिकारी हैं ।। वर्ना क्या कारण है हमने सत्रह लाल प

तेरी औकात बताता हूं

0
20 -Sep-2016 Adityaraj Terrorism poems 0 Comments  1,227 Views
तेरी औकात बताता हूं

आज अमन का गीत सुनाता, मै भारत का वासी हूं... तू खलनायक क्यूं बनता है, रूक, तेरी औकात बताता हूं... नहीं बोलता मै कुछ तो, बड़े ही डींगे हाकता है... कर्ज में डूबा है फिर भी तू, इतना क्या इतराता है ??? परमाणु बम के होने पर तू, खुद क

मत करना अब माफ

0
20 -Sep-2016 Dr. Roopchandra Shastri Mayank Terrorism poems 0 Comments  943 Views
मत करना अब माफ

दशकों से आतंक को, देश रहा है झेल। सही समय अब आ गया, मेटो इनका खेल।। -- करो चढ़ाई पाक पर, रचो नया भूगोल। नक्शे पर से कीजिए, नाम पाक का गोल।। -- पूरी दुनिया मानती, जिसको दहशतगर्द। ऐसे दहशतगर्द का, कौन बने हमदर्द।। -- जिसकी न

कश्मीर के शहीद जवानो इंसाफ दिलाओ

0
20 -Sep-2016 Deepak Panghal Terrorism poems 0 Comments  1,181 Views
कश्मीर के शहीद जवानो इंसाफ दिलाओ

कश्मीर के शहीद जवानो इंसाफ दिलाओ मोदी जी अपने ह्रदय मे तुम आग जलाओ अब भाषण का वक़्त नही तुम जोश मे आओ सेना को दे दो आजादी जमकर आतंकियों का खून बहाया पैलेट गन मिर्ची बम का यू न ढोंग रचाओ दो सेना को आर्डर आतंकियों का स

अब तो करो प्रहार

0
20 -Sep-2016 Dr. Roopchandra Shastri Mayank Terrorism poems 0 Comments  954 Views
अब तो करो प्रहार

दोहे "अब तो करो प्रहार" सीमाओं पर पाक का, बढ़ा सतत् उत्पात। बद से बदतर हो रहे, दुश्मन के जुल्मात।१। -- सैनिक अपने मर रहे, चिन्ता की है बात। आँखें सबकी नम हुई, लगा बहुत आघात।२। -- बन्द कीजिए पाक से, कूटनीति की बात। बता दी

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017