Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Ye kaise reet hai duniya ki...

10
12 -Feb-2015 Pooja Kumari Wedding Poems 3 Comments  7,903 Views
Pooja Kumari

Is ghar ke baag ki chidiya thi mai,
is parivar ke sadasyo ki gudiya thi mai,
mere khilkhilane se ye aangan khilkhilata tha,
ek masoom aur chanchal si nadiya thi mai,,

mere kadmo ki ahat se mehakta pura ghar tha,
meri bato se thitholiyo se gunjta ye angan tha,
mai is ghar ki rani thi kabhi aur,
meri parchai is ghar ki khusiyo ka jeevan tha,,

mai thi azad yaha par khuaff khati hoon is baat se,
laadli mai banke rahi jahaan pyar mila mujhse sabse,
aaj mere apne mujhe paraya-dhan kehte hai,
kyu meri kismat judi hai kisi aur ki kismat se?

Koi mujhse puche mujhpar kya beet rahi hai,
kaise sweekar karu ki ye gair hai apne nahi hai,
kya yahi meri kismat hai?
Jis ghar me kheli pali badi hui ye ghar mera ghar nahi hai,,

aye khuda ye kaisi na-insafi ki hai tune,
jin rishto ke bina har pal har lamhe the soone,
unko chodkar mujhe jana hai aaj,
ye dil tadap raha hai or ro rahi hai akhein,,

kya yahi har ladki ki kismat ban gayi hai,
kisi ke ghar janam lo or kisi or ke ho jao yahi zindagi hai?
Mai to ek khilona sa ban ke reh gayi hoon,
isliye kismat mujhe apno se door kar rahi hai,,

kismat ka ye usool mujhe raas nahi aa raha hai,
aise bichad rahi hoon jaise jaan jism se koi khich raha hai,
"ye kaisi reet hai duniya ki" kaisa farz hai apno ka?
Kya unka dil mujhse bichad ke khush ho raha hai?

Ankhein jabse kholi maine jabse jeevan paya hai,
aap hi ko dekha aap hi ko samjha aap hi ko sab kuch mana hai,
ungli pakad ke meri mujhe raah dikhai hai aapne,
chalna yahi sikha maine khud ka astitva banaya hai,,

aaj bichad rahi hoon inse or mere hath me kuch bhi nahi hai,
keh raha hai man papa-mummy mujhe jana nahi hai,
kyu apni hi aulad gairo ko saup rahe hai aap?
Mera ghar,duniya meri khusiyaan yahi hai,,

ek begane ke sath mera rishta jod diya hai,
ek raat ke beete mujhe begana kar diya hai,
kya beti hona mera kasoor tha?
Jo mere hi ghar se mujhe paraya kar diya hai,,

Ye kaise reet hai duniya ki...


ये कैसी रीत है दुनिया की...

इस घर के बाग की चिड़िया थी मैं,
इस परिवार के सदस्यो की गुड़िया थी मैं,
मेरे खिलखिलाने से ये आँगन खिलखिलाता था,
एक मासूम और चंचल सी नदिया थी मैं,,

मेरे कदमो की आहट से महकता पूरा घर था,
मेरी बातों से ठिठोलियों से गूँजता ये आँगन था,
मैं इस घर की रानी थी कभी और,
मेरी परछाई इस घर की खुशियों का जीवन था,,

मैं थी आज़ाद यहा पर खौफ खाती हूँ इस बात से,
लाडली मैं बनके रही जहाँ प्यार मिला मुझे सबसे,
आज मेरे अपने मुझे पराया-धन कहते है,
क्यू मेरी किस्मत जुड़ी है किसी और की किस्मत से?

कोई मुझसे पूछे मुझ पर क्या बीत रही है,
कैसे स्वीकार करूं कि ये गैर हैं अपने नहीं हैं,
क्या यही मेरी किस्मत है?
जिस घर मे खेली पली बड़ी हुई ये घर मेरा घर नहीं है,,

ऐ खुदा ये कैसी ना-इंसाफी की है तूने,
जिन रिश्तो के बिना हर पल हर लम्हे थे सूने,
उनको छोड़कर मुझे जाना है आज,
ये दिल तड़प रहा है ओर रो रही है आखें,,

क्या यही हर लड़की की किस्मत बन गयी है,
किसी के घर जन्म लो ओर किसी और के हो जाओ यही ज़िंदगी है?
मैं तो एक खिलौना सा बन के रह गयी हूँ,
इसलिए किस्मत मुझे अपनो से दूर कर रही है,,

किस्मत का ये उसूल मुझे रास नही आ रहा है,
ऐसे बिछड़ रही हूँ जैसे जान जिस्म से कोई खींच रहा है,
"ये कैसी रीत है दुनिया की" कैसा फ़र्ज़ है अपनो का?
क्या उनका दिल मुझसे बिछड़ के खुश हो रहा है?

आँखें जबसे खोली मैने जबसे जीवन पाया है,
आप ही को देखा आप ही को समझा आप ही को सब कुछ माना है,
उंगली पकड़ के मेरी मुझे राह दिखाई है आपने,
चलना यही सीखा मैने खुद का अस्तित्व बनाया है,,

आज बिछड़ रही हूँ इनसे ओर मेरे हाथ मे कुछ भी नही है,
कह रहा है मन पापा-मम्मी मुझे जाना नही है,
क्यू अपनी ही औलाद गैरो को सौप रहे है आप?
मेरा घर,दुनिया मेरी खुशियां यहीं है,,

एक बेगाने के साथ मेरा रिश्ता जोड़ दिया है,
एक रात के बीते मुझे बेगाना कर दिया है,
क्या बेटी होना मेरा कसूर था?
जो मेरे ही घर से मुझे पराया कर दिया है,,


 Please Login to rate it.


You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

3 More responses

  • Swapan Mukherjee
    Swapan Mukherjee (Registered Member)
    Commented on 28-December-2020

    Very real and touching and raises social status of daughters after kanyadan. Is she an object which can be given away to a new family for starting a family? It is a fact that daughter has two homes but both do not belong to her. May be we can soothe her esteem by renaming kanyadan as badhu pujan Or kanya samman..

  • poemocean logo
    Bhavna chourasiya (Guest)
    Commented on 15-April-2017

    har beti apne pita ki rani hoti h har pitake liye uski beti kaas hoti h wao so sweet poem.

  • poemocean logo
    Rachna kumari (Guest)
    Commented on 18-November-2016

    i like your poem its so nice.........

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017