Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

स्नेह उसमें अपार।

0
10 -Aug-2020 Dr. Swati Gupta Woman Poems 0 Comments  106 Views
स्नेह उसमें अपार।

नारी पर दोहे। 1-मूरत है मामृत्व की,स्नेह उसमें अपार। नारी से ही रचा गया ,यह सारा संसार।। 2-नारी दुर्गा रूप है, संयम अपरम्पार। मत ललकारो स्त्रीत्व को, करो सदव्यवहार।। 3-खिलौना नहीं कामिनी,मत करो दुराचार। काली रूप अग

चीज़ नहीं है नारी कोई,

0
17 -Jul-2020 Dr. Swati Gupta Woman Poems 1 Comments  443 Views
चीज़ नहीं है नारी कोई,

नारी कोमल सी काया है, ममता की प्यारी छाया है, नर भी उपजें नारी से ही, नारी ने विश्व रचाया है। कन्या बनकर उसने हरपल, बाबुल का गुल महकाया है, बनकर पत्नी हर्षित होकर, साजन का साथ निभाया है, माँ बनकर अपने बच्चों को, प्यारा

NARI SHAKTI

1
25 -Feb-2020 DIYA KHEMANI Woman Poems 0 Comments  363 Views
NARI SHAKTI

PURANI NAHI HAI MERI KAHANI HA HAI MERI ICHCCHA NIRALI MAI CHAHTI HOO JAGRUT HOYE HAR VO NARI JO CHUP RAHKAR APNI IZZAT BACHATI NARI MIEN BASTI HAI LAXMI, GHAR LATI HAI SUKH SAMRUDDHI. FHIR KYO KAHLATI HAI VAH PANOTI? KAHKAR USE DHAN PARAYA KAR DETE HAI USE PARAYA. AAJ JIS NARI KO DEVI MAA BANAYA KAL USI NARI KO ATYACHARO KA SHIKAR BANAYA AUR VAH BHI NYAY BHI KAHLAYA. MAA SARASVATI SA GYAAN HAI USEMEI. DEVI RADHA SA PREM HAI USEMEI. MAA PAARVATI SI MAMTA HAI USEMEI. MAA DURGA SI SHAKTI HAI USEMEI. MAA KALI SA KRODH HAI USEMEI. NARI KO IZZAT BCH

एक पल

0
01 -Jan-2020 MANOJ POOSAM Woman Poems 0 Comments  147 Views
एक पल

मुझें तुमसें एक शिकायत है, कयो मेरे साथ पयार भरी बाते नही करते कयो मेरे साथ एक पल बैठा नही करते| मुझें तुमसें एक शिकायत है, कयो मेरे साथ खाना नही खाया करते कयो मेरे साथ एक पल बैठा नही करते| मै कया तुमसे अनजान हूँ, जो त

मेरी रानी

0
29 -Dec-2019 MANOJ POOSAM Woman Poems 0 Comments  269 Views
मेरी रानी

मेरी रानी है वो, मेरी पटरीनी है वो मेरे सपनो की कहानी है वो,मेरे जीवन की एक कहानी है वो मेरे सुखः-दुखः की सयानी है वो, मेरी मिसी रानी है वो मेरी मिसी रानी है वो,घर के सभी के दिल की रानी है वो| मेरे घर ऑगन की दुलारी है वो,

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017