Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

ज़हन

0
05 -Aug-2021 Arvind Sharma Youngster Poems 0 Comments  308 Views
ज़हन

कभी दस्तक दी तुमने मेरे ज़हन मे। या मुस्कुराते ही फिरते हो मन ही मन में कौन कमबख्त मरा जा रहा है स्नेह में तेरे हम तो सावन के लहलहाते बालों पे मरते हैं इन भूरे भूरे मेघोँ पे मरते है। मेरी आशिक़ी की इन्तहा तुम क्या दे

नाम मेरा दर्ज़

0
10 -Jul-2021 N.K.M.[ LYRICIST ] Youngster Poems 0 Comments  54 Views
नाम मेरा दर्ज़

GANGSTER-SONG :- नाम मेरा दर्ज़ LYRICIST :- N.K.M. [+916377844869 ] LYRICS :- :::::::----- INTRO-PART :::::::::------ ठिकाणे गैंग में मेरे , लिए मैंने बंदूक के फेरे, प्यार में कैसे पड़ेंगे तेरे... जाना एक बात बता दूं, मेरी दुनिया आ तुझको दिखा दूं, तेरा सौ परसेंट कन्फ्यूज मिटा दू

हथियारों की बौछार

0
09 -Jul-2021 N.K.M.[ LYRICIST ] Youngster Poems 0 Comments  108 Views
हथियारों की बौछार

SONG :- हथियारों की बौछार LYRICIST :- N.K.M. [ +916377844869 ] LYRICS :- :------ INTRO PART :------- घूमूं टोली हर पल मैं लेकर हथियारों की तेरे घर आऊं टोली लेकर बारातियों की कुड़िए ऐसा हो नहीं पाएगा आज दिन हो रहा है, कल रात भी हो सकती है... ::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::: :------ CHO

समय फिर करवट बदलेगा

0
28 -Jun-2021 Keshav Youngster Poems 0 Comments  35 Views
समय फिर करवट बदलेगा

समय फिर करवट बदलेगा। तूफानों भरी यह रात बीतेगी। संशय भरी यह बरसात बीतेगी। मन में चुभती हुई कठिन आघात मिटेगी। दुख का रोना क्यों रोऊं थोरी-थोरी बातों से। अभी गगन निखरा है, कल सूरज निकलेगा।। है दुविधा की रात, आगे क्

हुंकार हवा में

0
17 -Jun-2021 N.K.M.[ LYRICIST ] Youngster Poems 0 Comments  366 Views
हुंकार हवा में

GANGSTER- SONG :- हुंकार हवा में LYRICIST :- N.K.M. [ +916377844869 ] LYRICS :- ::::----- INTRO PART ::::::---- धरती को कुरेद दिया, पानी उससे छीन लिया... धरती को कुरेद दिया, पानी उससे छीन लिया... उस पानी से खुद की प्यास बुझाते हम... :::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::: ::::----- CHORUS PART ::::::---- घड़ियों का क्या

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017