Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

ज़िन्दगी की अज़ीब कहानी.....

23
11 -May-2016 Thakur Gourav Singh Life Poem 5 Comments  1,978 Views
Thakur Gourav Singh

ज़िन्दगी क्यों हमे मिली है ,
जीने के लिए या मरने के लिए मिली है।
क्यों इसे हम समज नहीं पाते ,
क्यों खुद की मर्जी से जी नहीं पाते,
बहुत ऐसे सवाल है,
जिनके जवाब अभी बाकी है ,
और नए सवाल इसमें जुड़ते जाते है,
ज़िंदा रहे भी तो किसलिए ,
यहाँ तो जीने की भी वजह नहीं मिलती ,
मरना चाहे भी तो किसलिए,
मरने की भी तो वजह नहीं मिलती,
बस इसी तरह ज़िन्दगी की उलझने बढती जाती है,
हम जीते है या मरते है
ये सवाल बढ़ते जाते है
चाहते है हम ज़िन्दगी से कुछ ऐसा,
जो हमे मिल नहीं सकता,
इसी वजह से हसना तो दूर ,
रोने का भी समय नहीं मिलता।
क्यों इसे हम समज नहीं पाते ,
क्यों खुद की मर्जी से जी नहीं पाते,
बहुत ऐसे सवाल है,
जिनके जवाब अभी बाकी है ,
और नए सवाल इसमें जुड़ते जाते है,
चाहते तो है हम इस ज़िन्दगी को समजना,
पर जितना समजने की कोशिस करो ,
उतना ही उलझा देती है ये ज़िन्दगी,
इस ज़िन्दगी की कश्म्कस को जो समजता है,
वही इस ज़िन्दगी जी पाता है।
ज़िन्दगी हमे ऐसे इंसानों से मिलवाती है,
जिन्हें हम जान से ज्यादा प्यार करते है,
फिर ये ज़िन्दगी ऐसे मोड़ पे खड़ा करती है,
जिसको हम जान से ज्यादा चाहते है,
वाही बिच राह में छोड़कर चला जाता है,
ज़िन्दगी को क्या मिलता है ये सब करके,
दिल तो हमारा तडपता है दूरिय सहके,
ज़िन्दगी अपना काम करके जाती है,
हम कितना भी खुश रह ले,
एक दिन ये हमे रुलाती है,
ज़िन्दगी क्यों हमे मिली है ,
जीने के लिए या मरने क लिए मिली है।
क्यों इसे हम समज नहीं पाते ,
क्यों खुद की मर्जी से जी नहीं पाते,
बहुत ऐसे सवाल है,
जिनके जवाब अभी बाकी है ,
और नए सवाल इसमें जुड़ते जाते है,
ज़िन्दगी क्यों हमे मिली है ,
जीने के लिए या मरने के लिए मिली है।


ठाकुर गौरव सिंह
#अल्फाज़#दिल#से



 Please Login to rate it.



You may also likes


How was the poem? Please give your comment.

Post Comment

5 More responses

  • poemocean logo
    Taniya Mehta (Guest)
    Commented on 11-May-2016

    Truly said..
    Awesum poem...
    Vry gud thinking....

  • poemocean logo
    Farida qhureshi (Guest)
    Commented on 11-May-2016

    Nyc poem.

  • poemocean logo
    Ritu Patel (Guest)
    Commented on 11-May-2016

    Nyc poem dude
    Awsum lines...

  • poemocean logo
    Rozina (Guest)
    Commented on 11-May-2016

    Live life forgetting abt wt will cum
    .

  • poemocean logo
    Shubham Bijwe (Guest)
    Commented on 11-May-2016

    The flow is full of deep thoughts! Very few souls are able to reach that level of deepness! Nicely created✌.

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017