Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Rahul

List of popular and best poems written by Rahul

Rahul
Rahul
Rahul

दरमियां अपने भी कोई बात तो होती...

0
06 -Feb-2019 Rahul Love Poem 0 Comments  313 Views
दरमियां अपने भी कोई बात तो होती...

दरमियां अपने भी कोई
बात तो होती,
ख्वाबो में सही अपनी
मुल

कभी न चाहा था मैंने....

1
05 -Feb-2019 Rahul Lonely Poems 0 Comments  271 Views
कभी न चाहा था मैंने....

कभी न चाहा था मैंने
ये तुम ही थे जो चले गए,
उसपार, इसपार
खी

इक ज़िक्र मोहब्बत का.....

1
02 -Feb-2019 Rahul Love Poem 0 Comments  331 Views
इक ज़िक्र मोहब्बत का.....

इक ज़िक्र मोहब्बत का था वो कर नही पाएं,
बाद उसके राहत-ए-ज़िगर

किसकी तस्वीर को.....

1
31 -Jan-2019 Rahul Love Poem 0 Comments  438 Views
किसकी तस्वीर को.....

किसकी तस्वीर को सीने से लगा बैठे हो,
कौन सी बात को अफ़साना ब

मोहब्बत बढ़ती जाती है....

0
10 -Nov-2016 Rahul Love Poem 0 Comments  579 Views
मोहब्बत बढ़ती जाती है....

हर बात पे अब तो शिकायत बढ़ती जाती है,
लगता है उनसे मोहब्बत ब

वो लड़की

1
16 -Sep-2016 Rahul Love Poem 0 Comments  550 Views
वो लड़की

एक ख़ूबसूरत सी
सावली सी लड़की,
बहुत खुल के मिलती है
वो बेबा

बे-इख़्तियार-ए-दिल

0
12 -Sep-2016 Rahul Sad Poems 0 Comments  563 Views
बे-इख़्तियार-ए-दिल

उसी को चाहता हूँ मैं
जिसे कि पा नही सकता,
एक जरा सा दिल पे

किसी पत्थर की मूरत

1
09 -Aug-2016 Rahul Sad Poems 0 Comments  692 Views
किसी पत्थर की मूरत

किसी पत्थर की मूरत हो
कुछ कहती हो न सुनाती हो
मैं तुझसे प्

इक क़फ़स है ज़िन्दगी....(ग़ज़ल)

0
09 -Aug-2016 Rahul Sad Poems 0 Comments  686 Views
इक क़फ़स है ज़िन्दगी....(ग़ज़ल)

हूँ असीरी में अपने तन्हाई के साथ कमरे मे
रहता है यहाँ पुर

ज़िन्दगी कुछ आगे तो बढ़े।

0
06 -Aug-2016 Rahul Lonely Poems 0 Comments  620 Views
ज़िन्दगी कुछ आगे तो बढ़े।

वही शामे है वही रातें है
वही शब-ओ-रोज कुछ बेकरारी है
ज़िन्द

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017