Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Anand Kumar (manish)

List of popular and best poems written by Anand Kumar (manish)

Anand Kumar (manish)
Anand Kumar (manish)
Anand Kumar (manish)

मतदाता जागरूकता के लिए मुक्तक

0
03 -Apr-2019 Anand kumar (Manish) Politics Poem 0 Comments  183 Views
मतदाता जागरूकता के लिए मुक्तक

१) लोकतंत्र का महापर्व आया
हमने अपना कर्तव्य निभाया

वोटिंग करने जाएंगे (ठीक है)

1
01 -Apr-2019 Anand kumar (Manish) Politics Poem 0 Comments  216 Views
वोटिंग करने जाएंगे (ठीक है)

लोकतंत्र का महापर्व आया
इसको हम मनाएंगे_ठीक है

लोकतंत्

100-100 के नोट

1
28 -Mar-2019 Anand kumar (Manish) Politics Poem 0 Comments  247 Views
100-100 के नोट

हमारे गांव में नेता आया
चौराहे पे उसने सब को बुलाया
100-100 के

मैं लौट आऊंगा

0
17 -Dec-2018 Anand kumar (Manish) Memories Poems 0 Comments  185 Views
मैं लौट आऊंगा

मैं लौट आऊंगा
'मां' तुम क्यों रोती हो


गम के सागर में
तुम

मैं वही हूं

0
06 -Dec-2018 Anand kumar (Manish) Dream Poems 0 Comments  267 Views
मैं वही हूं

मैं वही हूं
जो आपसे मिला था
उस दिन
अंधेरी रातों में
कड़क

कौन कहता है भारत में मेरा दम घुटता है

0
28 -Nov-2018 Anand kumar (Manish) Social Issues Poems 0 Comments  495 Views
कौन कहता है भारत में मेरा दम घुटता है

कौन कहता है
भारत में मेरा दम घुटता है

यहां जानवरों का चा

शराफत का चोला

0
05 -Nov-2018 Anand kumar (Manish) Woman Poems 1 Comments  224 Views
शराफत का चोला

गली-गली में हैवान बैठे है
हवस की आग बुझाने को
शराफत का चोल

सच्चा शिक्षक

0
26 -Sep-2018 Anand kumar (Manish) Teacher Day Poem 0 Comments  579 Views
सच्चा शिक्षक

अज्ञान के अंधेरे में जो दीपक जलाएं
ज्ञान की जो गंगा बहा‌‌

फरिश्ते भला हम क्यों बने

0
06 -Sep-2018 Anand kumar (Manish) Terrorism poems 0 Comments  483 Views
फरिश्ते भला हम क्यों बने

हमारे देश का स्वर्ग
अब स्वर्ग न रहा
देखने में यह नर्क
से

जिंदगी कैसी रही

1
31 -Aug-2018 Anand kumar (Manish) Life Poem 0 Comments  477 Views
जिंदगी कैसी रही

मौत मेरे सामने खड़ी
मुस्कुरा के मुझसे
कहने लगी
जिंदगी क

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017