Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Dr. Dinesh Kumar Koli

List of popular and best poems written by Dr. Dinesh Kumar Koli

Dr. Dinesh Kumar Koli
Dr. Dinesh Kumar Koli
Dr. Dinesh Kumar Koli

कोरोना वायरस- घर से बाहर ना जाओ तो (CORONA VIRUS- GHAR SE BAAHA NA JAO TAU)

0
23 -Mar-2020 Dr. DINESH KUMAR KOLI Social Issues Poems 0 Comments  1,287 Views
कोरोना वायरस- घर से बाहर ना जाओ तो (CORONA VIRUS- GHAR SE BAAHA NA JAO TAU)

घर से बाहर ना जाओ तो

एक कोरोना, एक-एक का रोना
मुश्किल कर द

छोड़ कर तुम हमें, यूं ना जाया करो (CHHOD KAR TUM HAMEIN YUN NA JAYA KARO))

5
11 -Mar-2020 Dr. DINESH KUMAR KOLI Love Poem 0 Comments  512 Views
छोड़ कर तुम हमें, यूं ना जाया करो (CHHOD KAR TUM HAMEIN YUN NA JAYA KARO))

छोड़ कर तुम हमें, यूं ना जाया करो
वक्त हमसे अकेले में, कटत

शून्य और दशमलव

1
24 -Nov-2015 Dr. DINESH KUMAR KOLI Kids Poem 0 Comments  1,925 Views
शून्य और दशमलव

शून्य और दशमलव ने
किया एक सवाल
बिन हमारे हो जाता
गणित का

Baaton Ki Baatein

2
02 -Apr-2015 Dr. DINESH KUMAR KOLI Social Poems 0 Comments  2,100 Views
Baaton Ki Baatein

आपकी बात कुछ और है,
मेरी बात कुछ और है,
आपकी, मेरी बात मिले,

Jai Jagdambe Maa

3
22 -Mar-2015 Dr. DINESH KUMAR KOLI Festival Poems 0 Comments  1,777 Views
Jai Jagdambe Maa

काली, दुर्गे, अम्बे माँ
गौरी, जय जगदम्बे माँ
पूरण कर दो मन

Tu Hi Sarvtra Hai

5
17 -Mar-2015 Dr. DINESH KUMAR KOLI God Poems 0 Comments  1,683 Views
Tu Hi Sarvtra Hai

जग, धरा के चक्कर लगा रहा,
उस धरा की धुरी तू ही है,
तू ही अनाद

Badlaav Ka Daur

6
13 -Mar-2015 Dr. DINESH KUMAR KOLI Social Poems 1 Comments  1,329 Views
Badlaav Ka Daur

बेईमानी, ईमानदारी को डस रही है,
बुराई, अच्छाई पर बरस रही ह

Holi Aayi

8
05 -Mar-2015 Dr. DINESH KUMAR KOLI Holi Poems 0 Comments  1,319 Views
Holi Aayi

होली आई, होली आई
फिर से, आँख-मिचोली आई
रंग-बिरंगी, टोली आई

Zindagi Ki Raah

23
02 -Mar-2015 Dr. DINESH KUMAR KOLI Life Poem 6 Comments  1,622 Views
Zindagi Ki Raah

'टाइम' कैश कीजिए,
जिंदगी, सँवर जाएगी
सामने, से आ रही है
पीछ

Gaadi Ka Pahiya

23
01 -Mar-2015 Dr. DINESH KUMAR KOLI Social Poems 10 Comments  2,387 Views
Gaadi Ka Pahiya

पहिये की रफ्तार समझ,
जरा धीरे चल, मेरे भइ्या
पहिया बड़ा है

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017