Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Divya Raj Kumar

List of popular and best poems written by Divya Raj Kumar

Divya Raj Kumar
Divya Raj Kumar
Divya Raj Kumar

कहानी गौरैया की

0
26 -Dec-2019 Divya Raj kumar Woman Poems 1 Comments  189 Views
कहानी गौरैया की

एक नयी पर पुरानी कहानी है
एक नन्ही गौरैया की
जो अपने मास

वह गरीब है

0
09 -Nov-2019 Divya Raj kumar Social Poems 1 Comments  470 Views
वह गरीब है

पिछ्ले कुछ दिनों से
या यूँ कहूँ हमेशा से
दुख होता है देखक

अंधा कानून

3
03 -Aug-2019 Divya Raj kumar Miscellaneous Poems 1 Comments  514 Views
अंधा कानून

कागज़ के टुकड़ों पर
नींव भ्रष्टाचार का रखा जा रहा
उन टुकड़ो

नया सवेरा

1
31 -Jul-2019 Divya Raj kumar Hard Work Poems 0 Comments  435 Views
नया सवेरा

वक्त वक्त का घाव यह
ऐसे न मुरझाएगा
उत्पन्न उस पीड़ से
मन

अस्तित्त्व

1
31 -Jul-2019 Divya Raj kumar Woman Poems 0 Comments  419 Views
अस्तित्त्व

औरों की शर्तों पर
कब तक मैं
यूँ ही खुद को
उनकी ललक के खात

मैं कौन हूँ

1
03 -Mar-2019 Divya Raj kumar Human Being Poems 0 Comments  465 Views
मैं कौन हूँ

उगते सूर्य की प्रथम किरण हूँ
ढलते सांझ की गोधुली बेला हू

मेरी दुनिया मेरी माँ

1
25 -Feb-2019 Divya Raj kumar Mothers Day Poem 0 Comments  759 Views
मेरी दुनिया मेरी माँ

कोई नहीं तुझसे हसीं
न ही कोई तेरे जैसा माँ
लगे चोट मुझे त

ढलता बचपन

2
06 -Feb-2019 Divya Raj kumar Childhood Poems 0 Comments  558 Views
ढलता बचपन

आ फंसे किस दलदल में
अनजान मोड़ो पर
जिन्दगीं के कशमकश में

बिछड़न

1
03 -Feb-2019 Divya Raj kumar Daughter Poems 0 Comments  651 Views
बिछड़न

बाबा तेरी रंगीन महफिल
एक दिन सूनी हो जायेगी
लाँघ तेरी दह

दरिंदगी हैवानो की

2
01 -Feb-2019 Divya Raj kumar Woman Poems 1 Comments  758 Views
दरिंदगी हैवानो की

डर.....!

डर तो मुझे भी लगता है
सहमा जीवन जीती हूँ
घर से निकल

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017