Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

सिफ़र

Basic informations and poetry stats of सिफ़र

सिफ़र
सिफ़र
सिफ़र

Basic Info

Name: सिफ़र
Gender: Male
Birthday: 11 March
Education: Arts/Commerce/Science Graduate
Location: Khandwa, Madhya Pradesh
Rating: 5 / 5 by 1 vote(s)

Get in touch

0 Followers

About सिफ़र

पेश ए सलाम के बाद

मैं खुद का तआऱुफ़ करवाता हूं,

नाम रखा था मेरा गौरव,

गौरव के मायनी नाज़, फ़क्र,

नाज़ ओ फ़क्र को तो कुछ हासिल नहीं इसलिए,

तख़ल्लुस अपना सिफ़र कहलवाता हूं।

पढ़ा लिखा कुछ मै ख़ास नहीं,

ख़ूब रंगीन मेरा लिबास नहीं,

रंग एक काला ओढ़ लेता हूं,

कोई हौले से के जाता हो कानों में,

मैं बस वही दोहराए लिखता जाता हूं।

यूं तो नहीं, मैं किसी की ख्वाहिश हूं,

मोमिन ,मीर, ग़ालिब का वारिस हूं,

जां पे मेरी कुछ जरूर इनका कर्ज है,

मानो बस यही चुकाता जाता हूं।

किसी एक शहर का ग़र खुद को बाशिंदा कहूं,

कैसे फिर मैं जहां भर से ना इंसाफी करूं,

बस जाता हूं मैं जहां जाता हूं,

एक मुसाफ़िर हूं, बस के चलता चला जाता हूं।

तख़ल्लुस, तख़ल्लुस मैं अपना "सिफ़र" कहलवाता हूं।।

 

 


Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017