Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

सिफ़र

List of popular and best poems written by सिफ़र

सिफ़र
सिफ़र
सिफ़र

क्या हुआ जो मसीहा मेरा सर तराश हो गया

0
24 -Apr-2021 सिफ़र Miscellaneous Poems 0 Comments  413 Views
क्या हुआ जो मसीहा मेरा सर तराश हो गया

क्या हुआ जो मसीहा मेरा सर तराश हो गया ?
ख़िताब-ए-शहीदी पे ना

ख़राब किया करते है

0
18 -Apr-2021 सिफ़र Miscellaneous Poems 0 Comments  354 Views
ख़राब किया करते है

वो तू नहीं जिसे पेश आदाब किया करते है ,
बाज़ार है हम बस दाम ख़

मज़दूर

0
18 -Apr-2021 सिफ़र Hard Work Poems 0 Comments  564 Views
मज़दूर

देखिये कोई यहाँ, थका, पसीने में चूर है ,
ख़िदमत को हाज़िर दुन

सलीबे-ख़ता

0
18 -Apr-2021 सिफ़र Love Poem 0 Comments  484 Views
सलीबे-ख़ता



न मनौती कबूलता है न बद्दुआ का असर नाम का ,
तू ही कह ओ ख़ुदा

चीज़ बड़ी

0
18 -Apr-2021 सिफ़र Love Poem 0 Comments  285 Views
चीज़ बड़ी



माना कि तेरी ज़िद है चीज़ बड़ी ,
कभी मैं झुक जाऊं तो है चीज़ ब

हसरत ओ अरमां

0
11 -Apr-2021 सिफ़र Love Poem 0 Comments  522 Views
हसरत ओ अरमां

शराफत मेरी और उनको हया से काम हो तो जाने दीजिये ,
एक दफ़ा दि

आरज़ू ऐ सिफ़र

0
11 -Apr-2021 सिफ़र Love Poem 0 Comments  518 Views
आरज़ू ऐ सिफ़र

तेरी आँखे झुकने जब जहां लगेगी ,
मेरे नाम पे तोहमत तब वहां ल

नागों की रानी

0
03 -Apr-2021 सिफ़र Animals Poem 0 Comments  702 Views
नागों की रानी

नागों की रानी

श्याम वर्णा ,काल रात्रि ये नागों की रानी ,

ग़ुल समझती है

1
03 -Apr-2021 सिफ़र Love Poem 0 Comments  534 Views
ग़ुल समझती है

ज़रा तितली क्या आ बैठी उसके कांधे ,
नादां को देख ख़ुदको गुल

नई पड़ोसन

0
03 -Apr-2021 सिफ़र Beauty Poems 0 Comments  803 Views
नई पड़ोसन

नई पड़ोसन

ये खबर ताज़ा थी ,अभी है नई जानकारी ,
हाल ही किचन की

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017